नई दिल्ली। राष्ट्रपति चुनाव में सत्ता पक्ष और विपक्ष के आमने-सामने आने के बाद चुनावी सरगर्मियां तेज हो गई हैं और विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने एक चार साल पुराने वीडियो के जरिये विपक्ष की उम्मीदवार मीरा कुमार पर निशाना साधा है। राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन के उम्मीदवार रामनाथ कोविंद के मुकाबले विपक्ष द्वारा पूर्व लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार को उम्मीदवार बनाए जाने के एलान के बाद से मीरा के बारे में मीडिया और सोशल मीडिया में कई तरह की रिपोर्ट आ रही हैं। इसी बीच, स्वराज ने अपने ट्विटर हैंडल पर चार साल पुराना एक वीडियो डालकर चुनावी सरगर्मियों को हवा दे दी है। यह वीडियो ३० अप्रैल २०१३ का है और इसमें वह तत्कालीन स्पीकर मीरा कुमार की मौजूदगी में लोकसभा में विपक्ष की नेता के तौर पर भाषण दे रही हैं। ट्विटर पर डाले वीडियो के बारे में लिखा गया है, ‘लोकसभा अध्यक्ष मीरा कुमार ने विपक्ष की नेता के साथ इस तरह का व्यवहार किया।रिपोर्टों के अनुसार, वीडियो में स्वराज जब अपने भाषण में तत्कालीन संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन सरकार की खामियों और ग़डबि़डयों का ब्यौरा रख रही थीं तो अध्यक्ष के आसन पर आसीन मीरा कुमार ने उन्हें निरंतर टोक रही थीं। वीडियो में मीरा कुमार स्वराज से अपने भाषण को सीमित करने को भी कह रही हैं। उल्लेखनीय है कि कोविंद को राष्ट्रपति पद का उम्मीवार बनाकर सरकार द्वारा चलाए गए दलित कार्ड के जवाब में विपक्ष ने भी एक ब़डे दलित चेहरे को मैदान में उतारकर इस मुकाबले को रोचक बना दिया है। इसके बाद से विपक्ष मीरा कुमार के अनुभव का हवाला देते हुए उन्हें बेहतर उम्मीदवार के रूप में पेश करने में लगा है। खुद मीरा कुमार ने भी निर्वाचक मंडल के सदस्यों से अपने अनुभव और संवैधानिक मूल्यों में विश्वास रखने की बाते कहते हुए उनसे अपील की है। समझा जाता है कि विपक्ष की इस दलील की धार को कुंद करने के लिए ही स्वराज ने यह वीडियो सार्वजनिक किया है जिसके जरिये से यह बताने की कोशिश की गई है कि लोकसभा अध्यक्ष रहते हुए मीरा कुमार विपक्ष के साथ भेदभाव करती थीं। राष्ट्रपति का चुनाव १७ जुलाई को होना है। कोविंद ने अपना नामांकन पत्र दायर कर दिया है जबकि मीरा कुमार अगले सप्ताह अपना नामांकन पत्र दायर करेंगी।