logo
ईंधन लागत कम करने के लिए उत्पादक एवं उपभोक्ता के बीच हो साझेदारी : मोदी
 

नई दिल्ली/वार्ताप्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सोमवार को कहा कि तेल बाजार उत्पादक संचालित है और मात्रा और कीमत दोनों उत्पादक देश तय करते हैं। ऐसे में उत्पादक और उपभोक्ता के बीच लागत कम करने के लिए साझेदारी होनी चाहिए। मोदी ने वित्त मंत्री अरुण जेटली, पेट्रोलियम मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान, नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार की मौजूदगी में ऊर्जा क्षेत्र की दुनिया की प्रमुख कंपनियों के प्रमुखों और विशेषज्ञों के साथ यहां विचार-विमर्श किया। मोदी ने कहा कि भारत एक उपभोक्ता देश है और तेल की कीमतों में आई तेजी से संसाधन की तंगी के साथ ही कई आर्थिक चुनौतियों का भी सामना करना प़ड रहा है। इसको पाटने के लिए तेल उत्पादक देशों के साथ सहयोग बहुत जरूरी है। उन्होंने तेल उत्पादक देशों से विकासशील देशों के तेल क्षेत्र में व्यावसायिक उत्पादन की दिशा में अपने निवेश योग्य अधिशेष का उपयोग करने की अपील की तथा विकसित देशों से प्रौद्योगिकी उपलब्ध कराने का भी अनुरोध किया और कहा कि गैस वितरण में निजी क्षेत्रों की भागीदारी होनी चाहिए। प्रधानमंत्री ने प्रौद्योगिकी का उल्लेख करते हुए कहा कि प्राकृतिक गैस के व्यावसायिक उत्पादन में जहां उच्च दाब और अधिक तापमान वाली प्रौद्योगिकी की जरूरत है वहां सहयोग किया जाना चाहिए। उन्होंने तेल उत्पादक देशों से भुगतान के शर्तों की समीक्षा करने की भी अपील की ताकि स्थानीय मुद्रा को फौरी राहत मिल सके। प्रधानमंत्री ने कहा कि भरपूर उत्पादन हो रहा है लेकिन तेल उत्पादकों ने इसकी कीमतें ब़ढायी है। प्रधानमंत्री ने तेल के क्षेत्र में उनकी सरकार द्वारा किए गए विभिन्न नीतिगत उपायोग और विकासात्मक पहलों का उल्लेख करते हुए कहा कि गहरे समुद्र में एवं उच्च दाब एवं उच्च तापमान उत्खन्न वाली प्रौद्योगिकी आधारित गैस के मूल्य निर्धारण एवं विपणन का उदारीकरण किया गया है।