नई दिल्ली। चुनाव आयोग ने १५वें उपराष्ट्रपति के निर्वाचन के लिए गुरुवार को चुनाव कार्यक्रम घोषित कर दिया। मुख्य चुनाव आयुक्त नसीम जैदी ने चुनाव आयुक्त एके जोती और ओपी रावत के साथ चुनाव कार्यक्रम की जानकारी देते हुए बताया कि उपराष्ट्रपति चुनाव की अधिसूचना चार जुलाई को जारी कर दी जाएगी। जैदी ने बताया कि आयोग द्वारा चार जुलाई को चुनाव की अधिसूचना जारी होने के साथ ही इच्छुक उम्मीदवार उपराष्ट्रपति पद के लिए नामांकन पत्र दाखिल कर सकेंगे। नामांकन पत्र दाखिल करने की अंतिम तिथि १८ जुलाई होगी। जबकि, उम्मीदवारों द्वारा भरे गए नामांकन पत्रों की जांच का काम १९ जुलाई को किया जाएगा। उन्होंने बताया कि यदि जरूरी हुआ तो उपराष्ट्रपति पद के लिए पांच अगस्त को चुनाव होगा।राष्ट्रपति एवं उपराष्ट्रपति निर्वाचन अधिनियम १९५२ और इस हेतु बनायी गयी नियमावली, १९७४ के तहत उपराष्ट्रपति पद के चुनाव हेतु संसद के दोनों सदनों के निर्वाचित एवं नामित प्रतिनिधयों द्वारा गठित निर्वाचक मंडल के सदस्य मतदान कर सकते हैं। इसके लिए निर्वाचक मंडल के सभी सदस्य पांच अगस्त को सुबह दस बजे से शाम पांच बजे तक होने वाले मतदान में वोट डाल सकेंगे। निर्वाचक मंडल में लोकसभा के ५४३ निर्वाचित एवं २ नामांकित सांसद जबकि राज्यसभा के २३३ निवार्चित एवं १२ नामित सांसदों को मिलाकर कुल ७९० सदस्य शामिल हैं। जैदी ने बताया कि उपराष्ट्रपति चुनाव की मतगणना मतदान के दिन, पांच अगस्त को ही होगी। मौजूदा उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी का कार्यकाल १० अगस्त २०१७ को समाप्त हो रहा है। इससे पहले १५वें उपराष्ट्रपति की निर्वाचन प्रक्रिया को पूरा करना जरूरी है। जैदी ने बताया कि राष्ट्रपति चुनाव की ही तर्ज पर उपराष्ट्रपति चुनाव में मतदान के लिए भी निर्वाचन आयोग ने विशेष पैन के इस्तेमाल की व्यवस्था की है। निर्वाचक मंडल के सभी मतदाताओं को आयोग द्वारा मतदान स्थल पर मुहैया कराए गए पैन से मतपत्र द्वारा अपना वोट डालना होगा। उन्होंने स्पष्ट किया कि निर्वाचन नियमावली के मुताबिक, मतदाताओं द्वारा मतपत्र पर किसी अन्य पैन का इस्तेमाल किए जाने पर उनके मत को अमान्य माना जाएगा।