बेंगलूरू। लोकायुक्त अदालत ने मंगलवार को जंतकल एंटरप्राइजेज अवैध खनन मामले में कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री और जनता दल (एस) के राज्य अध्यक्ष एचडी कुमारस्वामी की जमानत याचिका को खारिज कर दिया। कुमारस्वामी ने पिछले माह १७ मई को अवकाशकालीन न्यायालय से अंतरिम जमानत प्राप्त की थी। लोकायुक्त अदालत ने मुख्य आवेदन स्वीकार कर लिया है जिसे अंतरिम जमानत के लिए याचिका दायर की है। अदालत के आदेश पर प्रतिक्रिया देते हुए कुमारस्वामी ने कहा, ’’मैं अग्रिम जमानत की अस्वीकृति को लेकर चिंतित नहीं हूं। वह पूर्ण आश्वस्त हैं और उन्होंने कुछ गलत नहीं किया है’’। उन्होंने कहा कि वह अपनी कानूनी टीम के सुझावों का पालन करेंगे और उच्च न्यायालय में अग्रिम जमानत के लिए जाएंगे। अवैध खनन की जांच कर रहे विशेष जांच दल (एसआईटी) ने १७ मई को इस मामले में १९८९ बैच के आईएएस ऑफिसर एवं तत्कालीन खनन सचिव गंगाराम बडेरिया को गिरफ्तार किया था। आरोप कि कुमारस्वामी ने आईएएस अधिकारी पर दबाव डाला था, जिसके चलते जंतकल एंटरप्राइजेज को खनन परिवहन की अनुमति दी गई थी। कर्नाटक के पूर्व मंत्री जी जनार्दन रेड्डी ने आरोप लगाया था कि कुमारस्वामी ने जंतकल एंटरप्राइज द्वारा लौह अयस्क को उठाने के लिए १५० करो़ड रुपए की रिश्वत ली थी लेकिन रेड्डी ने अपने आरोपों के समर्थन में दस्तावेज जमा नहीं किए हैं। एसआईटी प्रमुख चरण रेड्डी ने कहा कि जनार्दन रेड्डी को पर्याप्त समय देने के बावजूद कुमारस्वामी के खिलाफ रिश्वत के आरोपों वाले दस्तावेज जमा नहीं किए हैं।