बेंगलूरु। आयकर विभाग ने बुधवार को कर चोरी के एक मामले में कर्नाटक के ऊर्जा मंत्री डीके शिवकुमार से संबंधित कई परिसरों पर छापे मारे। शिवकुमार बेंगलूरु के पास स्थित एक रिसॉर्ट में गुजरात के ४४ विधायकों के ठहरने की व्यवस्था का प्रभार देख रहे थे। आयकर विभाग के अधिकारियों ने कहा कि मंत्री से संबंधित विभिन्न संपत्तियों पर छापेमारी के दौरान नौ करो़ड रुपए की नकदी बरामद हुई। आयकर विभाग की टीम मंत्री को रिसॉर्ट से बेंगलूरु स्थित उनके घर ले गई है। बरामद नकदी को गिनने के लिए दिल्ली के सफदरजंग एंक्लेव, कर्नाटक के हासन और मैसूरू स्थित परिसरों में नोट गिनने की मशीनें मंगाई गई हैं। सुबह के समय की गई छापेमारी से संबंधित जानकारी रखने वाले अधिकारियों ने कहा कि आयकर विभाग के लोग मंत्री से पूछताछ करने ईगल्टन रिसॉर्ट पहुंचे जो रात से रिसॉर्ट में ठहरे हुए थे। आयकर अधिकारियों ने कहा कि रिसॉर्ट में रखे गए ४४ विधायकों से संबंधित व्यवस्थाओं का प्रभार देख रहे मंत्री छापेमारी के समय रिसॉर्ट में ही मौजूद थे। कांग्रेस ने भाजपा को अपने इन विधायकों को तो़डने से रोकने के लिए कनार्टक के इस रिसॉर्ट में रखा है। रिसॉर्ट पर छापेमारी को लेकर कांग्रेस ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। वहीं, आयकर विभाग के अधिकारियों ने कहा कि रिसॉर्ट पर छापेमारी नहीं की जा रही है। उन्होंने कहा कि रिसॉर्ट में केवल मंत्री के कमरे की तलाशी ली गई, न कि गुजरात के विधायकों के कमरे की।हंगामा राज्यसभा में सदन के नेता एवं वित्त मंत्री अरुण जेटली ने स्पष्ट किया कि कर्नाटक के जिस रिसॉर्ट में कांग्रेस के गुजरात के विधायक ठहरे हुए हैं वहां आयकर विभाग ने छापा नहीं मारा है बल्कि कर्नाटक के एक मंत्री और उनके ३९ स्थानों पर छापेमारी की गई है। कांग्रेस के आंनद शर्मा सहित पार्टी के कई अन्य सदस्यों ने शून्यकाल शुरू होते ही सदन में इस मुद्दे को उठाया और नारेबाजी की। नारेबाजी के बीच जेटली ने कहा कि आयकर विभाग ने कर्नाटक के एक मंत्री के घर पर छापा मारा है और इसी दौरान यह मंत्री अपने घर से निकलकर उस रिसॉर्ट में छुप गया जहां गुजरात के कांग्रेस विधायकों को ठहराया गया है। बेंगलूरु के एक रिसॉर्ट पर आयकर विभाग की छापेमारी के दौरान केन्द्रीय बल भेजे जाने के विरोध में कांग्रेस ने राज्यसभा में जमकर हंगामा किया, जिसके कारण शून्यकाल बाधित रहा और प्रश्नकाल नहीं चल सका तथा चार बार के स्थगन के बाद सदन की कार्यवाही गुरुवार तक के लिए स्थगित कर दी गई। बेंगलूरु के एक रिसॉर्ट पर आयकर विभाग की छापेमारी के दौरान केन्द्रीय बल भेजे जाने के विरोध में कांग्रेस ने राज्यसभा में जमकर हंगामा किया, जिसके कारण शून्यकाल बाधित रहा और प्रश्नकाल नहीं चल सका तथा चार बार के स्थगन के बाद सदन की कार्यवाही गुरुवार तक के लिए स्थगित कर दी गई।नई दिल्ली। कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि कर्नाटक के ऊर्जा मंत्री के रिसॉर्ट पर आयकर विभाग के छापों से साफ हो गया है कि मोदी सरकार ने गुजरात में राज्यसभा चुनाव को प्रभावित करने के लिए सोची-समझी साजिश के तहत यह कार्रवाई की है। लोकसभा में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खरगे ने आरोप लगाया कि छापेमारी की यह कार्रवाई डर और भय का माहौल पैदा करने के लिए की गई है। जिस तरह से एक निश्चित ठिकाने को निशाना बनाकर छापे मारे गए और राज्यसभा चुनाव से ठीक पहले यह कार्रवाई हुई उससे साफ है कि यह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह की जुगलबंदी का परिणाम है।नई दिल्ली। कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि कर्नाटक के ऊर्जा मंत्री के रिसॉर्ट पर आयकर विभाग के छापों से साफ हो गया है कि मोदी सरकार ने गुजरात में राज्यसभा चुनाव को प्रभावित करने के लिए सोची-समझी साजिश के तहत यह कार्रवाई की है। लोकसभा में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खरगे ने आरोप लगाया कि छापेमारी की यह कार्रवाई डर और भय का माहौल पैदा करने के लिए की गई है। जिस तरह से एक निश्चित ठिकाने को निशाना बनाकर छापे मारे गए और राज्यसभा चुनाव से ठीक पहले यह कार्रवाई हुई उससे साफ है कि यह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह की जुगलबंदी का परिणाम है।