श्रीनगर। जम्मू कश्मीर में अनंतनाग जिले के अचाबल क्षेत्र में आतंकवादियों ने शुक्रवार को एक पुलिस दल पर घात लगाकर हमला किया जिसमें एक उपनिरीक्षक सहित छह पुलिसकर्मी शहीद हो गए। पुलिस महानिदेशक एसपी वैद ने कहा कि शहीद थाना प्रभारी की पहचान उपनिरीक्षक फिरोज के रूप में हुई है जो आतंकवादियों की अंधाधुंध गोलीबारी की चपेट में आ गए। वह पुलवामा के रहने वाले थे। उन्होंने कहा कि अन्य शहीदों में एक चालक और चार अन्य पुलिसकर्मी शामिल हैं जो अपनी जीप में नियमित ड्यूटी पर थे। पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि हमले के पीछे पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन लश्कर-ए- तैयबा का हाथ होने का संदेह है। उसने अरवनी मुठभे़ड का बदला लेने के लिए यह हमला कराया होगा जिसमें उसके स्थानीय कमांडर जुनैद मट्टू के मारे जाने की बात कही जा रही है। पुलिस सूत्रों के अनुसार आतंकवादियों ने पुलिसकमर्यिों की हत्या कर उनका चेहरा क्षतविक्षत किया और फिर उनके हथियार लेकर फरार हो गए।

श्रीनगर। दक्षिण कश्मीर में आतंकवादियों के खिलाफ अभियान में बाधा उत्पन्न करने वाले प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए पुलिस की कथित गोलीबारी में दो युवकों की मौत गई जबकि कई अन्य घायल हो गए। आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि दक्षिण कश्मीर में आतंकवादियों से मुठभे़ड के दौरान कुछ युवक अरवानी की स़डकों तथा आसपास के इलाकों में प्रदर्शन शुरू कर दिया। प्रदर्शनकारियों ने सुरक्षा घेरे को तो़डकर मुठभे़ड स्थल की ओर ब़ढने की कोशिश की। सुरक्षा बलों ने प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले छो़डे तथा हवा में गोलियां चलाई जिसमें कई लोग घायल हो गए।

जम्मू-कश्मीर के कुलगाम में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच हुए एनकाउंटर में लश्कर के टॉप कमांडर जुनैद मट्टू समेत दो आतंकियों को मार गिराया गया है। अधिकारियों ने बताया कि एक घर में तीन आतंकवादियों के मौजूद होने की खुफिया सूचना मिलने के बाद सेना सहित सुरक्षा बलों ने कुलगाम अरवानी गांव के मलिक मोहल्ले में एक घर की घेराबंदी की जिसके बाद मुठभे़ड शुरू हुई। सुरक्षाबलों ने आतंकियों को एक बिल्डिंग में घेर लिया था। इन आतंकियों में लश्कर का कमांडर जुनैद मट्टू भी शामिल था। जुनैद मट्टू आठ घंटे तक बिल्डिंग में छिपा रहा था। इस इलाके में आतंकियों के होने की सूचना मिलते ही सुरक्षाबल के जवानों ने सर्च ऑपरेशन शुरू कर दिया था। जुनैद मट्टू पिछले साल पुलिस वाहन पर दिनदहा़डे किए गए हमले में शामिल था, जिसमें तीन पुलिसकर्मियों की मौत हो गई थी। उसपर १० लाख रुपए का ईनाम था।