चीन के साथ डोकलाम पर तनाव खत्म

530

नई दिल्ली। एशिया के दो बड़े पड़ोसी देशों भारत और चीन के बीच डोकलाम को लेकर उपजा तनाव सौहार्दपूर्ण ढंग से समाप्त हो गया है क्योंकि दोनों देशों ने अपनी-अपनी सेना को वापस बुलाने का मन बना लिया है। सोमवार को भारत और चीन अपनी-अपनी सेनाओं को डोकलाम से पीछे हटाने के लिए तैयार हो गए हैं। एक बड़ी राजनयिक उपलब्धि के तहत विदेश मंत्रालय ने कहा कि भारत और चीन ने राजनयिक संवाद बरकरार रखा है तथा वे एक दूसरे को अपने हितों एवं चिंताओं से अवगत कराने में सफल रहे हैं। भारतीय सेना के सूत्रों ने बताया कि सिक्किम में डोकलाम से सैनिकों के लौटने की प्रक्रिया चल रही है। भारत ने उस क्षेत्र में करीब 350 सैन्यकर्मी तैनात कर रखे थे। डोकलाम इलाके में भारत और चीन के बीच 16 जून से गतिरोध बना हुआ है जब भारतीय सैनिकों ने चीनी सेना को इलाके में एक सड़क का निर्माण करने से रोक दिया था।

वैसे विदेश मंत्रालय के बयान में स्पष्ट तौर पर नहीं कहा गया है कि क्या चीनी और भारतीय सीमाबल उस इलाके से पीछे लौट गए हैं या अभी यह प्रक्रिया होनी है। दोनों पक्षों के बीच हुए समझौते में कहा गया है कि भारत और चीन अपनी-अपनी सेनाएं वापस बुलाएंगे। हालांकि चीन ने कहा है कि वह डोकलाम में सड़क निर्माण नहीं करेगा लेकिन उनकी सेना इस क्षेत्र में पेट्रोलिंग करती रहेगी। वहीं, दूसरी तरफ इस क्षेत्र में पेट्रोलिंग को लेकर भारत की तरफ से अभी तक कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है।

डोकलाम विवाद पर चीन का अपने अड़ियल रवैये से पीछे हटना एक प्रकार से भारत की कूटनीतिक जीत है। चीन की ओर से बार बार दी जा रही युद्ध की धमकियों के बाद भी भारत अपने रुख पर कायम रहा। रक्षा मंत्रालय के अनुसार, इस कूटनीति बातचीत के दौरान हमने अपना पक्ष रखने की पूरी कोशिश की। अंततः चीन न सिर्फ डोकलाम से सेना हटाने का तैयार हुआ है बल्कि वह भूटान के साथ जुड़ी इस अंतरराष्ट्रीय सीमा पर अब सड़क निर्माण भी नहीं करेगा।

चीन के शियामेन में अगले महीने 3 से 5 सितंबर के दौरान ब्रिक्स सम्मेलन होगा। ब्रिक्स में ब्राजील, रुस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका हैं। अगले सप्ताह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ब्रिक्स सम्मेलन के लिए चीन रवाना हो रहे हैं। इसलिए मोदी के दौरे के पूर्व दोनों देशों के बीच तनाव का खत्म होना भारत के लिए बड़ी उपलब्धि की भांति है क्योंकि यह तनाव पड़ोसी देश भूटान की संप्रभुता की रक्षा करने से जुड़ा था।

एक नजर में डोकलाम विवाद

  • डोकलाम भूटान का एक हिस्सा है, जिसकी सीमा भारत और चीन से मिलती है।
  • डोकलाम को चीन अपना ऐतिहासिक हिस्सा बताता रहा है।
  • इस वर्ष जून में चीनी सेना ने डोकलाम में सड़क निर्माण शुरू किया था, जिसको लेकर भारत ने आपत्ति जताई थी।
  • 18 जून को करीब 250 से 300 भारतीय जवानों ने चीन को जवाब देने के लिए डोकलाम में प्रवेश किया और चीन के सड़क निर्माण को रोक दिया।
  • भारत के लिहाज से डोकलाम बेहद महत्वपूर्ण हिस्सा है क्योंकि पूर्वोत्तर राज्यों को जोड़ने वाला देशा का चिकन नेक हिस्सा इससे बेहद करीब है।
  • चीन द्वारा सड़क निर्माण, भारत के लिए यह एक चिंता का कारण बन रहा था कि इससे चीन भारत की सीमा के काफी करीब पहुंच जाएगा।