केजीएफ। रक्षा मंत्री अरुण जेटली ने शनिवार को केजीएफ स्थित भारत अर्थ मूवर्स लिमिटेड, जो रक्षा क्षेत्र का एक सार्वजनिक उपक्रम है, की यूनिट में स्वदेशी डिजाइन और विकसित उपकरण को राष्ट्र को समर्पित किया। बीईएमएल वर्कशॉप में जेटली ने बृहत्तर डीजल एक्केवेटर बीई१८००डी, बृहत्तर क्रॉलर डोजर बीडी४७५-१ और टी-७२ हुल, जो टैंकों में फिटिंग के लिए होता है, का शुभारंभ किया। इस दौरान उपकरणों का उपयोग भी लघु रूप में प्रदर्शित किया गया। साथ ही जेटली ने डिफेंस हेंगर में विविध प्रकार के रक्षा क्षेत्र के उपकरणों के उपयोग से परिचित हुए। जेटली ने स्वदेशी उत्पादों के उत्पादित करने में बीईएमएल द्वारा किए गए सराहनीय प्रयास की प्रशंसा की। इस अवसर पर रक्षा सचिव (उत्पादन) एके गुप्ता, बीईएमएल निदेशक दीपक कुमार होटा, सांसद केएच मुनियप्पा आदि उपस्थित थे।बीईएमएल के निजीकरण करने के केन्द्र के प्रयासों का विरोध कर रहे संगठनों ने स्थानीय सांसद केएच मुनियप्पा के नेतृत्व में जेटली को एक ज्ञापन सौंपकर केन्द्र से आग्रह किया कि वह बीईएमएल का निजीकरण न करे। बीईएमएल से जु़डे विविध संगठनों और हितधारक प्रतिनिधियांे ने जेटली को ज्ञापन सौंपा। बाद में संवाददाताओं से बात करते हुए मुनियप्पा ने कहा कि इस मुद्दे पर वे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से जल्द ही मिलेंगे और बीईएमएल में विनिवेश के खिलाफ जनभावनाआंे से अवगत कराएंगे।