नई दिल्ली। पंद्रहवें राष्ट्रपति चुनाव की बुधवार को अधिसूचना जारी होने के साथ ही राजनीतिक सरगर्मी ब़ढ गई है तथा सत्ता पक्ष और विपक्ष अपनी रणनीति बनाने में जुट गए हैं। सत्तारु़ढ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और विपक्षी दलों की हुई अलग-अलग बैठकों में राष्ट्रपति चुनाव की रणनीति पर विचार किया गया लेकिन अभी तक उम्मीदवार के रुप मेें कोई नाम सामने नहीं आया है। अधिसूचना जारी करने के साथ ही राष्ट्रपति चुनाव के लिए नामांकन पत्र दाखिल करने की प्रक्रिया शुरु हो गई। नामांकन पत्र दाखिल करने की अंतिम तिथि २८ जून है तथा चुनाव १७ जुलाई को होगा।आयोग द्वारा राष्ट्रपति एवं उपराष्ट्रपति निर्वाचन अधिनियम १९५२ के तहत अधिसूचना जारी होने के तुरंत बाद राष्ट्रपति चुनाव के लिए नियुक्त निर्वाचन अधिकारी अनूप मिश्रा ने इस पद पर चुनाव हेतु नामांकन प्रक्रिया शुरू करने का बुधवार को नोटिस जारी किया। मिश्रा की ओर से जारी नोटिस में नामांकन प्रक्रिया का जिक्र करते हुए कहा गया है कि इच्छुक उम्मीदवार आज (बुधवार) से २८ जून तक अपने विधिवत भरे हुए नामांकन पत्र जमा करा सकेंगे। उम्मीदवारों को अपने नामांकन पत्र लोक सभा सचिवालय स्थित कमरा नंबर १८ में मिश्रा के कार्यालय में जमा कराने होंगे। नामांकन पत्र सार्वजानिक अवकाश के अलावा सभी कार्यदिवस पर दिन में ११ बजे से ३ बजे के बीच जमा किए जा सकेंगे। नोटिस के अनुसार उम्मीदवार मिश्रा की गैरमौजूदगी में सहायक निर्वाचन अधिकारी रवींद्र गरिमेला या सयुंक्त सचिव विनय कुमार मोहन को भी लोक सभा निदेशक कार्यालय मे नामांकन पत्र सौंप सकेंगे। नोटिस में उम्मीदवारी के लिए जमानत राशि के रूप में १५ हजार रुपए नकद जमा करने की भी बात कही गई है। साथ ही २९ जून को दिन में ११ बजे से एक जुलाई को दिन में तीन बजे तक उम्मीदवार नामांकन वापस ले सकेंगे। आम सहमति से उम्मीदवार तय नहीं हो पाने की स्थिति में १७ जुलाई को मतदान होगा।

नई दिल्ली। राष्ट्रपति चुनाव की रणनीति पर विचार विमर्श के लिए विपक्षी नेताओं की बुधवार को यहां हुई बैठक में किसी भी नाम पर चर्चा नहीं हुई। बैठक के बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने बताया कि राष्ट्रपति पद के उपयुक्त उम्मीदवार के बारे में फैसला करने के लिए विपक्षी नेताओं के दस सदस्यीय समूह की फिर बैठक होगी। सूत्रों ने बताया कि इस उद्देश्य के लिए गठित विपक्ष के उप समूह के सभी दस सदस्य संसद भवन में राज्यसभा में नेता प्रतिपक्ष के कक्ष में एकत्र हुए। कुछ दिन पहले गठित इस समूह की यह पहली बैठक है। सूत्रों ने बताया कि विपक्षी नेता इस पद के लिए संभावित उम्मीदवारों के बारे में विचार विमर्श करेंगे किंतु वह इस संबंध में सरकार की पहल की भी प्रतीक्षा करेंगे। राष्ट्रपति पद के सर्वसम्मत उम्मीदवार के चयन के लिए भारतीय जनता पार्टी की ओर से गठित उच्च स्तरीय समिति के सदस्य शुक्रवार को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मिलेंगे। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने उच्च स्तरीय समिति का गठन किया है। सूचना एवं प्रसारण मंत्री एम वेंकैया नायडू, गृह मंत्री राजनाथ सिंह और वित्त मंत्री अरुण जेटली को इसका सदस्य बनाया गया है। समिति के सदस्य सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के महासचिव सीताराम येचुरी के साथ विचार विमर्श करेंगे। राष्ट्रपति पद के सर्वसम्मत उम्मीदवार के चयन के लिए भारतीय जनता पार्टी की ओर से गठित उच्च स्तरीय समिति के सदस्य शुक्रवार को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मिलेंगे। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने उच्च स्तरीय समिति का गठन किया है। सूचना एवं प्रसारण मंत्री एम वेंकैया नायडू, गृह मंत्री राजनाथ सिंह और वित्त मंत्री अरुण जेटली को इसका सदस्य बनाया गया है। समिति के सदस्य सोनिया गांधी से मुलाकात के बाद मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के महासचिव सीताराम येचुरी के साथ विचार विमर्श करेंगे।