नई दिल्ली/भाषा कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा से अधिकार वापस लेकर उन्हें छुट्टी पर भेजे जाने के सरकार के कदम के खिलाफ शुक्रवार को सीबीआई मुख्यालय के बाहर विरोध प्रदर्शित करने के बाद गिरफ्तारी दी। साथ ही उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से माफी की मांग की। कांग्रेस का यह विरोध मार्च लोधी रोड स्थित दयाल सिंह कॉलेज के बाहर से शुरू होकर करीब एक किलोमीटर दूर सीबीआई मुख्यालय तक गया। इस दौरान गांधी ने कहा, प्रधानमंत्री ने भारत के प्रत्येक संस्थान को बरबाद कर दिया। पार्टी के वरिष्ठ नेताओं अशोक गहलोत और भूपिंदर सिंह हुड्डा समेत पार्टी अध्यक्ष ने गिरफ्तारी दी। राफेल ल़डाकू विमान सौदे पर प्रधानमंत्री के खिलाफ अपने आरोपों को दोहराते हुए गांधी ने एक बार फिर उन्हें चौकीदार’’’’ कह कर पुकारा और कहा कि उन्होंने ३०,००० करो़ड रुपये अनिल अंबानी की जेब में जमा किए्। उन्होंने कहा, कांग्रेस चौकीदार को चोरी नहीं करने देगी। गांधी ने लोधी कॉलोनी पुलिस थाने में गिरफ्तारी देने के बाद संवाददाताओं से कहा, उन्होंने भारतीय वायुसेना एवं युवाओं से पैसा चुराया और पूरा देश इस बात को समझता है। प्रधानमंत्री सच से भाग सकते हैं लेकिन उससे छिप नहीं सकते। गांधी के आरोपों पर प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से तत्काल कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली। एक ओर जहां अंबानी आरोपों को लगातार खारिज कर रहे हैं वहीं भाजपा ने गांधी पर राफेल सौदे को लेकर हर दिन झूठ ग़ढने का आरोप लगाया है। गांधी ने कहा, सच सामने आकर रहेगा्। साथ ही उन्होंने कहा कि सीबीआई निदेशक को हटाने से सच प्रभावित नहीं होगा। इससे पहले कांग्रेस प्रदर्शनकारियों को संबोधित करते हुए उन्होंने मोदी पर सीबीआई, चुनाव आयोग और प्रवर्तन निदेशालय समेत अन्य संस्थानों को बर्बाद करने का आरोप भी लगाया।