कर्नल पुरोहित को उच्चतम न्यायालय से मिली जमानत

382

नई दिल्ली । मालेगांव ब्लास्ट मामले में आरोपी कर्नल प्रसाद पुरोहित को उच्चतम न्यायालय से आज सोमवार को जमानत मिल गई है। 9 साल से जेल में बंद कर्नल पुरोहित की जमानत मंजूर हो गई। हाल ही में बॉम्बे हाई कोर्ट ने पुरोहित की जमानत याचिका ठुकरा दी थी। इसी महीने 17 अगस्त को मामले की सुनवाई पूरी करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था जो आज सुनाया गया। हालांकि NIA ने कर्नल पुरोहित की जमानत का विरोध किया था। गौरतलब है कि इस मामले में दूसरी आरोपी साध्वी प्रज्ञा को पहले ही जमानत मिल चुकी है। पुरोहित की पैरवी प्रसिद्ध वकील हरीश साल्वे कर रहे थे।जस्टिस आर के अग्रवाल और ए. एम सप्रे की पीठ ने यह फैसला सुनाया है। एनआईए एजेंसी का कहना था कि पुरोहित के खिलाफ पर्याप्त सबूत हैं और इस मामले में बॉम्बे हाई कोर्ट का फैसला बरकरार रखा जाए जबकि साल्वे ने कहा कि न्याय के हित में पुरोहित को जमानत दी जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि जब इस केस में एक अन्य आरोपी प्रज्ञा सिंह ठाकुर को बेल मिल सकती है तो पुरोहित को क्यों नहीं? साल्वे ने एनआईए पर दोहरे मापदंड अपनाने का आरोप लगाया। साल्वे ने यह भी कहा कि कर्नल पुरोहित का बम धमाके से कोई कनेक्शन नहीं मिला है और अगर धमाके के आरोप हट जाते हैं तो भी अधिकतम सजा सात साल हो सकती है जबकि वह 9 साल से जेल में हैं। कोर्ट ने पूरी सुनवाई के बाद फैसला सुरक्षित रख लिया था जो आज सुना दिया।