ड्रग मामले में सीसीबी ने कन्नड़ अभिनेत्री संजना गलरानी को गिरफ्तार किया

317

बेंगलुरु/भाषा
कन्नड़ फिल्म उद्योग में नशीली दवाओं के कथित सेवन के मामले में जांच का दायरा बढ़ाते हुए शहर की पुलिस द्वारा एक और कन्नड़ अभिनेत्री की गिरफ्तारी के साथ ही कर्नाटक सरकार ने मंगलवार को कहा कि वह कानूनी व्यवस्था को मजबूत करेगी ताकि सुनिश्चित हो सके की प्रक्रियात्मक खामियां गिरफ्तार किए गए लोगों को कानून से बच निकलने का मौका न दें। पुलिस ने बताया कि कन्नड़ फिल्म जगत में नशीली दवाओं के सेवन की जांच कर रही केंद्रीय अपराध शाखा (सीसीबी) ने अभिनेत्री संजना गलरानी को मंगलवार सुबह उनके इंदिरा नगर स्थित आवास से गिरफ्तार किया।

राज्य के गृह मंत्री बसवराज बोम्मई ने कहा कि सरकार कानूनी व्यवस्था को मजबूत करेगी ताकि ड्रग मामलों में गिरफ्तार लोग प्रक्रियात्मक खामियों की वजह से ‘बच’ न सकें। गलरानी की गिरफ्तारी से कुछ दिन पहले सीसीबी ने उद्योग जगत की उनकी साथी अभिनेत्री रागिनी द्विवेदी को शहर में बड़ी-बड़ी पार्टियों में लोगों को मादक पदार्थ मुहैया कराने के सिलसिले में गिरफ्तार किया था। पुलिस ने बताया कि गलरानी को मंगलवार सुबह यहां उनके आवास पर केंद्रीय अपराध शाखा की छापेमारी के बाद गिरफ्तार किया गया।

संयोग से, पुलिस ने विरेन खन्ना के घर पर भी छापेमारी की जिसे अपराध शाखा के अधिकारियों ने फिल्म जगत में मादक पदार्थों के उपयोग के सिलसिले में पहले ही गिरफ्तार किया हुआ है। वहां से पुलिस की एक वर्दी बरामद की। बेंगलुरु के संयुक्त पुलिस आयुक्त संदीप पाटिल ने कहा, “अदालत से सर्च वारंट मिलने के बाद, सीसीबी ने दो स्थानों पर आज छापेमारी की। हमें उनके घरों से कई चीजें मिली हैं जिनकी हम जांच कर रहे हैं।”

उन्होंने कहा, “विरेन खन्ना के घर से हमें कर्नाटक पुलिस की वर्दी मिली है। हम जांच कर रहे हैं कि क्यों और किस मकसद से वर्दी वहां रखी गई थी।” पाटिल ने कहा कि पुलिस “इस (ड्रग) मामले की जांच में बहुत गहराई में जा रही है।”
उन्होंने कहा, ‘‘हमें और जांच करनी होगी और हमें और लोगों से पूछताछ करने की जरूरत है। कुल मिलाकर हमारी जांच सही दिशा में जा रही है।” पुलिस ने कहा कि गलरानी पर उस वक्त से ही नजर रखी जा रही थी जब उनके दोस्त राहुल के खिलाफ ड्रग से जुड़े मामले में मुकदमा दर्ज किया गया था।

संजना का जन्म बेंगलुरु में हुआ है। उन्होंने सिनेमा जगत में तमिल फिल्म ‘ओरु कधल सेवीर’ के जरिये 2006 में कदम रखा था। उन्होंने कन्नड़ फिल्म ‘गंदा हेंताथी’ में भी काम किया है। इस बीच, बोम्मई ने कहा, “मादक पदार्थों के खिलाफ अभियान बहुत सार्थक रहा है। मैंने पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों से कहा है कि कोई प्रक्रियात्मक खामी नहीं रहनी चाहिए।”

यह गौर करते हुए कि स्वापक औषधि एवं मन: प्रभावी पदार्थ अधिनियम (एनडीपीएस कानून) में वृहद कार्रवाई करने की जरूरत होती है, बोम्मई ने कहा कि आरोपी व्यक्तियों के कानून से बच निकलने की संभावना बहुत ज्यादा होती है। उन्होंने कहा, “अपनी स्थिति मजबूत करने के लिए, हम कानून मंत्री, कानूनी विशेषज्ञों, कानून विभाग और महाधिवक्ता के साथ विस्तृत चर्चा करेंगे।”

बोम्मई शहर में और राज्य में हर कहीं नशीली दवाओं के खिलाफ जारी अभियान का संदर्भ दे रहे थे। फिल्म उद्योग में मादक पदार्थों के सेवन के खिलाफ कार्रवाई में पुलिस ने अब तक द्विवेदी, गलरानी, पार्टी आयोजक खन्ना, पूर्व मंत्री के बेटे आदित्य अल्वा, रियल्टर राहुल और अभिनेता रियाज को गिरफ्तार किया है। सीसीबी द्वारा जिन 14 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है उनमें से सात को गिरफ्तार किया जा चुका है।

पुलिस ने अपना अभियान उस वक्त तेज कर दिया था जब नार्कोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) ने कन्नड़ फिल्म कलाकारों और गायकों को नशीली दवाएं पहुंचाने और उनको जमा कर रखने के मामले में बेंगलुरु से तीन लोगों को गिरफ्तार किया था।