बेंगलूरु। भारत की सबसे ब़डी निजी और पैकेट बंद चाय बेचने वाली तीसरी सबसे ब़डी कंपनी वाघ बकरी टी ग्रुप ने अपनी प्रीमियम चाय की रेंज को बेंगलुरु के एक पांच सितारा होटल में आयोजित समारोह में लांच किया। इस अवसर पर पत्रकारों से बातचीत के दौरान वाघ बकरी टी ग्रुप के प्रबंध निदेशक रासेश देसाई ने कहा मेरे करियर में बेंगलूरु ने बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। उन्होंने यहां के एक इंजीनियरिंग कॉलेज में पढाई के समय को याद करते हुए कहा कि जिस दौरान वह यहां पढाई कर रहे थे उस समय उन्हें पता चला कि बेंगलूरु चाय प्रेमियों की एक अनूठी जगह है। इसके आधार पर उन्होंने तय किया कि यहां के लोगों को वाघ बकरी चाय से परिचित करवाया जाए।उन्होंने बताया कि हाल ही में राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी की मौजूदगी में प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने वाघ बकरी चाय ग्रुप का सम्मान किया था। उन्होंने बताया कि इसने समूह की स्थापना वर्ष १८९२ में नारनदास देसाई ने की थी और इसने अपने परिवार के १२० वर्ष के व्यपारिक विरासत को आगे बढाते हुए उत्कृष्टता, विश्वास और विशेषज्ञता के साथ अपनी सेवाएं दी है। वाघ बकरी चाय समूह भारत में और ३० से अधिक देशों में सबसे अधिक चाय रेंज के साथ सबसे ब़डी निजी पैकेज्ड चाय कंपनी है। आज वाघ बकरी टी ग्रुप का कारोबार १००० करो़ड रुपए से अधिक है।वाघ बकरी टी ग्रुप द्वारा अपने चाय उत्पादों की श्रृंखला को बेंगलूरु में पेश करने के रणनीतिक निर्णय के बारे में बताने के बाद अपने विचार व्यक्त करते हुए वाघ बकरी टी ग्रुप के कार्यकारी निदेशक पराग देसाई ने कहा, वाघ बकरी एक ऐसा ब्रांड है जिसके पास पूरे विश्व में ७० लाख से अधिक संतुष्ट ग्राहक हैं। हम चाय के प्रीमियम मिश्रण के साथ बेंगलूरु को प्रसन्न करने के लिए यहां आए हैं और हमें विश्वास है कि वाघ बकरी टी जल्द ही बेंगलूरु और कर्नाटक में एक घरेलू नाम बन जाएगा। पराग देसाई ने बेंगलूरु से जु़डे महत्व के बारे बताते हुए कहा कि आंध्रप्रदेश और तेलांगना में वाघ बकरी को सफलतापूर्वक लांच करने के बाद तथा वहां के लोगों की स्वीकार्यता हासिल करने के बाद हमें विश्वास है कि बेंगलूरु भी वाघ बकरी ब्रांड को स्वीकार करेगा।