प्रतीकात्मक चित्र
प्रतीकात्मक चित्र

पोर्टलैंड/एपी। कोरोना वायरस महामारी के इस दौर में शारीरिक फिटनेस के लिए जिम जाने वाले वहां जाने से बच रहे हैं। यात्री सार्वजनिक परिवहन का इस्तेमाल करने से डर रहे हैं, ऐसे में साइकिल बाजार में बिक्री ने जोर पकड़ लिया है और यह इतनी तेजी से बढ़ रही है जैसी पिछले दशकों में नहीं देखी गई।

अमेरिका में वालमार्ट और टारगेट जैसे बड़े विक्रेताओं के पास साइकिलों का स्टॉक समाप्त हो चुका है। छोटी दुकानों में भी इसकी अच्छी बिक्री हो रही है। इन दुकानों में सस्ती ‘पारिवारिक’ बाइक बिक रही हैं।

अमेरिका में पिछले दो माह के दौरान साइकिलों की बिक्री में 1970 के तेल संकट के बाद से सबसे बड़ा उछाल दर्ज किया गया है। जे. टावनली का यह कहना है। वह मानव जनित समाधान के तहत साइकिल उद्योग का विश्लेषण करते हैं।

टावनली ने कहा, ‘लोग काफी घबराहट में हैं और वह टायलेट पेपर की तरह अब साइकिल खरीद रहे हैं। जिस प्रकार महामारी की शुरुआत में लोग टायलेट पेपर और हैंड सेनिटाइजर खरीदने के लिए स्टोरों में उमड़ पड़े थे, उसी प्रकार अब साइकिल की खरीदारी हो रही है।’

यह नजारा पूरी दुनिया में देखा जा रहा है। जिन शहरों की सड़कों पर कारों का जमावड़ा रहता था। उन शहरों में अब साइकिलों के लिए अलग लेन बनाई जा रही है। सड़कों पर साइकिल बढ़ने से उनके लिए अलग व्यवस्था की जा रही है जबकि सार्वजनिक परिवहन में कटौती की गई है।

लंदन के स्थानीय निकाय ने शहर के कुछ अंदरूनी इलाकों में कार आने-जाने पर रोक लगाने की योजना बनाई है। वहीं फिलिपींस की राजधानी में साइकिल की बिक्री करने वाले दुकानदारों का कहना है कि क्रिसमस त्यौहार के मुकाबले मांग अच्छी है।

इटली में साइकिल बिक्री के लिए सरकार की तरफ से प्रोत्साहन दिया जा रहा है। लॉकडाउन के बाद के प्रोत्साहन पैकेज में साइकिल के 60 प्रतिशत मूल्य पर 500 यूरो तक की बोनस छूट दी जा रही है।