प्रतीकात्मक चित्र। फोटो स्रोत: PixaBay
प्रतीकात्मक चित्र। फोटो स्रोत: PixaBay

नई दिल्ली/दक्षिण भारत। देश के लिए आर्थिक मोर्चे से अच्छी खबर है। एक रिपोर्ट में यह आकलन किया गया है कि अगले वित्त वर्ष में भारतीय अर्थव्यवस्था 8.9 प्रतिशत की दर से बढ़ेगी। यह अनुमान आईएचएस मार्किट ने लगाया है जिसके अनुसार वित्त वर्ष 2021-22 में देश की अर्थव्यवस्था हुत अच्छा प्रदर्शन करेगी।

इस रिपोर्ट का कहना है कि अगर आखिरी तिमाही में आर्थिक गतिविधियों पर गौर करें तो इसमें उल्लेखनीय सुधार पाते हैं। इसके आधार पर अनुमान लगाया गया है कि आगामी वित्त वर्ष में भी सुधार की प्रक्रिया जारी रहेगी और भारतीय अर्थव्यवस्था अच्छी बढ़त की ओर अग्रसर होगी।

उल्लेखनीय कि इससे पहले, राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (एनएसओ) यह अनुमान लगा चुका है कि जारी वित्त वर्ष में देश की अर्थव्यवस्था में 7.7 प्रतिशत की गिरावट देखने को मिलेगी। वहीं, आगामी वित्त वर्ष को लेकर आईएचएस मार्किट का आकलन उम्मीद जगाने वाला है।

आईएचएस मार्किट ने कहा है कि 2020 में भारतीय अर्थव्यवस्था ने जबर्दस्त मंदी का दौर देखा। सर्वाधिक गिरावट मार्च से अगस्त तक देखी गई। इसके बाद, सितंबर से आर्थिक गतिविधियों में सुधार का दौर देखा गया।

इसके अनुसार, 2020 की चौथी तिमाही में भारत का औद्योगिक उत्पादन और उपभोग व्यय सुधरा है। अक्टूबर के आंकड़ों से पता चलता है कि माह के दौरान सालाना आधार पर औद्योगिक उत्पादन 3.6 प्रतिशत बढ़ा जबकि अप्रैल, 2020 में औद्योगिक उत्पादन में 55.5 प्रतिशत की बड़ी गिरावट आई थी।

बता दें कि अप्रैल-जून तिमाही में अर्थव्यवस्था में 23.9 प्रतिशत की गिरावट आई। इसके बाद अर्थव्यस्था में सुधार के संकेत मिलने लगे, चूंकि जुलाई-सितंबर की तिमाही में गिरावट का यह आंकड़ा बहुत कम होकर 7.5 प्रतिशत पर आ गया।