‘पर्यावरण व गौ प्रेमी थे वीर तेजा महाराज‘

390

बागलकोट । स्थानीय वीर तेजा नवयुवक मंडल मुधोल द्वारा राजस्थान के लोकदेवता वीर तेजाजी महाराज के ९१४वें बलिदान दिवस को तेजा दशमी के रूप में मनाया गया। दानाम्मा गु़डी कल्याण मंडप में आयोजित समारोह का उद्घाटन पतंजलि योगपीठ कर्नाटक के प्रांत प्रभारी व कर्नाटक जाट समाज सेवा संघ के अध्यक्ष भंवरलाल आर्य, विनोद अग्रवाल, लालसिंह राजपुरोहित, लिखमाराम सांई, छत्राराम पटेल, भीमाराम बरकीया, हीराराम राड, सोहनलाल मुंडण ने दीप प्रज्ज्वलित कर किया। समारोह को सम्बोधित करते हुए भंवरलाल आर्य ने कहा कि आज से नौ वर्ष पहले राजस्थान के नागौर जिले के खरनाल गांव में वीर तेजाजी का जन्म जाट परिवार में हुआ। पर्यावरण व गौ प्रेमी वीर तेजाजी ने अपना पूरा जीवन गौसेवा में बिताया, गौरक्षा के लिए अपना बलिदान देने के कारण पूजनीय बने। आज समस्त राजस्थान इनको लोकदेवता के नाम से पूजता है। हमें वीर तेजाजी के आदर्शो पर चलकर पर्यावरण व् गौसेवा करनी चाहिए। अपने घर परिवार के साथ-साथ समाज व राष्ट्र के लिए भी कुछ न कुछ समय अवश्य निकालना चाहिए। इस अवसर पर भक्ति संगीत का आयोजन किया गया, जिसमें राजस्थान के भजन गायक कुलदीप ओझा एन्ड पार्टी द्वारा भजनों की प्रस्तुति दी। वीर तेजा नवयुवक मंडल द्वारा कलाकारों व अतिथियों को स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया। इस अवसर पर गणपत जाख़ड, सुगनाराम, मिश्राराम, धर्माराम सारण, दीपाराम, रूपाराम, बाबूराम पटेल, नारायणराम गोदारा कस्तुराराम सारण, शोभाराम आदि उपस्तिथ थे।