पौषध सामायिक से बदल जाती है जीवनचर्या : आचार्य महेन्द्रसागर

प्रधानमंत्री ने श्रीमती सीतारमण, पीयूष गोयल, धर्मेन्द्र प्रधान और मुख्तार अब्बास नकवी को पदोन्नत करते हुए कैबिनेट मंत्री बनाया है।

316

धारवा़ड। यहां चिंतामणी शीतलनाथ जैन श्वेतांबर मूर्तिपूजक संघ के आतिथ्य में चातुर्मासिक प्रवचन में रविवार को आचार्यश्री महेन्द्रसागरसूरीश्वरजी ने कहा कि एक सद्गृहस्थ का जितना समय सामायिक पौषध में बीतता है वह सफल और सार्थक समय कहलाता है, इसके सिवाय शेष समय संसार की ही अभिवृद्धि करने वाला है। उल्लेखनीय है कि आचार्यश्री की निश्रा में रविवार को सामूहिक सामायिक का समतादायक, सौभाग्यवर्धक व कर्मनाशक आयोजन हुआ। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि जब श्रावक सामायिक पौषध में होता है तब उसके जीवन में से अधिकांश पापों की विरति सहजतया हो जाती है क्योंकि पौषध सामायिक में श्रावक साधु जैसा होता है। उन्होंने कहा कि सामायिक पौषध में रहा श्रावक एके्द्रिरयादि जीवों की हिंसा का त्याग करता है। महेन्द्रसागरजी ने कहा कि पौषध सामायिक में आने से जीवनचर्या ही बदल जाती है जिससे समभाव समता का लाभ हो उसे सामायिक कहते हैं। मन में किंचित भी रागद्वेष के परिणाम पैदा न हो यह सामायिक की उत्कृष्ट भूमिका है। इस भूमिका को लक्ष्य में रखकर ही सामायिक धर्म की साधना-आराधना करनी चाहिए।