बाबा रामदेव की शोभायात्रा में उमड़ा श्रद्धा का सैलाब

154

चेन्नई। जन-जन की आस्था के प्रतीक, श्रद्धा के केन्द्र लोक देवता बाबा रामदेव के ५४वें वार्षिकोत्सव के तहत रामदेव भवन ट्रस्ट एत्तं रामदेव मंडल के तत्वावधान में गुरुवार रात्रि में शोभायात्रा निकाली गई। शोभायात्रा साहुकारपेट स्थित हनुमंतरायन कोइल स्ट्रीट के रामदेव मंदिर से शाम ७ बजे रवाना होकर मिन्ट स्ट्रीट, आदियप्पा नायकन, गोविन्दप्पा नायकन, एनएससी बोस रोड, नैनियाप्पा नायकन, रासाप्पा चेट्टी, मिन्ट स्ट्रीट होते हुए रात्रि ११ बजे मंदिर पहंुची। मंदिर में बाबा की महाआरती की गई। रात्रि में अखंड जागरण का आयोजन हुआ। इस शोभायात्रा में सभी समुदायों, संगठनों द्वारा आकर्षक झांकियां शामिल हुई। इस विशाल शोभायात्रा की झलक पाने के लिए स़डक के किनारे, छतों पर लोग ख़डे इंतजार करते रहे। हाथ में बाबा की पंचरंगी ध्वजा लिए जयकारों के साथ ढोल नगा़डों के साथ श्रद्धालु चल रहे थे। विशाल शोभायात्रा में उम़डे सैलाब को देखकर मारवा़ड के रुणिचा रामदेवरा की याद ताजा हो गई। शोभायात्रा में कई जगह अनेक सामाजिक संस्थाओं द्वारा शरबत, शीतल पेय, आइसक्रीम आदि का वितरण किया गया। इस शोभायात्रा को देखने के लिए लोगों को साल भर से इंतजार रहता है। ट्रस्ट व मंडल द्वारा शोभायात्रा में निकाली गई झांकियों को पुरस्कृत किया गया। पहली झांकी का पुरस्कार चौधरी आंजणा समाज को प्राप्त हुआ। दूसरे पुरस्कार के रुप में पीपा क्षत्रिय समाज एवं मारू प्रजापत समाज की झांकियों ने बाजी मारी। वहीं तीसरा पुरस्कार मारू चैन समाज, मद्रास माली समाज ट्रस्ट व विश्वकर्मा जांगी़ड समाज की झांकियों को मिला। भारतीय संस्कृति संरक्षण समिति को विशेष झांकी का पुरस्कार मिला।