शहर में 2018 के संयुक्त चातुर्मास की घोषणा एक अक्टूबर को चेन्नई में

714

बेंगलूरु। स्थानीय वर्धमान स्थानकवासी जैन श्रावक संघ चिकपेट शाखा की कार्यकारिणी की बैठक रविवार को यहां एक होटल में कार्याध्यक्ष प्रकाशचंद बंब की अध्यक्षता में हुई। मार्गदर्शक संपतराज धारीवाल के मंगलाचरण से शुरु हुई बैठक में सभी ने सामूहिक खम्मत खामणा किया। गत बैठक की कार्यवाही का ब्यौरा महावीरचंद बोहरा द्वारा प्रस्तुत किया गया। इस अवसर पर संघ के महामंत्री गौतमचंद धारीवाल ने बताया कि चिकपेट शाखा के तत्वावधान में वर्ष २०१८ में प्रस्तावित उपाध्यायश्री रवीन्द्रमुनिजी व वाणी के जादूगर रमणीकमुनिजी के संयुक्त चातुर्मास की तैयारियां लगभग पूर्ण हो चुकी हैं। उन्होंने बताया कि इस चातुर्मास की विधिवत् घोषणा एक अक्टूबर को चेन्नई में उपाध्यायश्री के मुखारविंद से होने की संभावना है। इसी क्रम में बेंगलूरु से चिकपेट शाखा के करीब दो सौ सदस्यीय दल में सभी पदाधिकारी व सदस्यगण सपरिवार चेन्नई इस घोषणा को श्रवण करने के लिए चेन्नई जाएंगे। धारीवाल द्वारा शहर के सभी संघों के भी पदाधिकारियों को इस यात्रा में साथ ले जाने के प्रस्ताव को ध्वनिमत से पारित किया गया। बैठक में संयुक्त चातुर्मास को लेकर सर्वसम्मति से १४ सदस्यीय कोर कमेटी का गठन किया गया जो कि चातुर्मास संबंधी विभिन्न निर्णय ले सकेगी। इस कमेटी में गौतमचंद धारीवाल, विजयराज लूणिया, ज्ञानचंद बाफना, प्रकाशचंद बंब, उत्तमचंद लोढा, धर्मीचंद कांटे़ड, गौतमचंद मुणोत, प्रकाशचंद ओस्तवाल, पीरचंद ओस्तवाल, प्रकाशचंद बाफना, सुरेश कातरेला, महावीरचंद बोहरा, संपतराज धारीवाल व निर्मल गुलेच्छा को शामिल किया गया है। धारीवाल ने बताया कि बैठक मेंे करीब ४० पदाधिकारी व सदस्यगणों ने उपस्थिति दर्शायी। चिकपेट शाखा की महिला अध्यक्ष रंजना गुलेच्छा, युवा अध्यक्ष पवन धारीवाल, मंत्री विनोद गोलेच्छा, विक्रम धारीवाल, पीरचंद ओस्तवाल, सुरेशचंद कातरेला, गौतम मुणोत सहित अनेक ने अपने-अपने सुझाव व विचार रखे। संरक्षक विजयराज लुणिया ने सभी का स्वागत किया। सभी का आभार संघ के कार्याध्यक्ष प्रकाशचंद बंब ने जताया। बैठक का संचालन महावीरचंद बोहरा ने किया।