हनुमंतनगर में हुआ साधु साध्वियों का अध्यात्मिक मिलन

84

बेंगलूरु/दक्षिण भारत। शहर के हनुमंतनगर स्थित तेरापंथ भवन में सोमवार को तेरापंथ मुनिश्री सुधाकरजी, साध्वीश्री अणिमाश्रीजी व साध्वीश्री मंगलप्रज्ञाजी का त्रिवेणी अध्यात्मिक मिलन हुआ्‌। इस अवसर पर साध्वीश्री अणिमाश्रीजी ने कहा कि तेरापंथ धर्मसंघ में हर शिष्य का गुरु के प्रति समर्पण भाव है। ऐसा ही धर्मसंघ हमें मिला है। हम महसूस कर रहे हैं साधु-साध्वियों की आपस की प्रमोद भावना रोम रोम को पुलकित कर रही है। यदि ऐसी ही प्रमोद भावना श्रावक-श्राविकाओं के परिवार के सदस्यों में आ जाये तो मंगल ही मंगल होगा।

हकीकत यह है परिवार में यदि कोई की गलती कर दे तो फट से मुँह खुलता है और अच्छाई में मुँह बंधा रहता है। बात बिलकुल ठीक नहीं है। हमें परिवार के साथ मिलजुल कर प्रेम के साथ रहना चाहिए्‌। साध्वीश्री ने अपने अनुभव साझा किए्‌। साध्वियों ने गीतिका के माध्यम से सभी का स्वगात किया। इस मौके पर महासभा से सहमंत्री प्रकाश लोढ़ा, दीपचंद नाहर, हनुमंतनगर सभा के अध्यक्ष सुभाष बोहरा, उपाध्यक्ष शंकरलाल बोहरा, महिला मंडल की अध्यक्षा मंजु दक, तेयुप अध्यक्ष गौतम खाब्या, मंत्री कमलेश झाबक, तेयुप विजयनगर महेंद्र टेबा, राजराजेश्र्वरीनगर के आलोक छाजेड़ ने अपने विचार व्यक्त किए्‌।