अनुष्का शर्मा
अनुष्का शर्मा

ईटानगर/दक्षिण भारत/भाषा। अरुणाचल प्रदेश में गोरखा संगठन ने वेब सीरीज ‘पाताल लोक’ के एक दृश्य में गोरखा समुदाय पर कथित ‘लिंगभेदी टिप्पणी’ करने के लिए अभिनेत्री अनुष्का शर्मा के खिलाफ राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) में शिकायत दर्ज कराई है। अनुष्का शर्मा इस वेब सीरीज की निर्माता हैं। ऑल अरुणाचल प्रदेश गोरखा यूथ एसोसिएशन (एएपीजीवाईए) के नामसाई इकाई के अध्यक्ष बिकास भट्टाराई ने हाल में यह शिकायत दर्ज कराई है।

संगठन ने अपनी शिकायत में कहा है कि वेब सीरीज के दूसरे एपिसोड में महिला पात्र के खिलाफ इस्तेमाल की गई ‘लिंग भेदी टिप्पणी’, ‘नेपाली भाषी लोगों का सीधा-सीधा अपमान है।’ एएपीजीवाईए ने कहा, ‘महिला विरोधी टिप्पणी ने गोरखा समुदाय और देशभर में नेपाली भाषी लोगों की भावनाओं को आहत किया है।’

इसने मांग की है कि या तो वेब सीरीज को दिखाना बंद कर देना चाहिए या ‘पाताल लोक’ की टीम गोरखा लोगों से माफी मांगे। समूह ने शिकायत में कहा, ‘सीरीज ने नेपाली समुदाय की भावनाएं आहत की हैं और अपमानजनक, प्रतिष्ठा को ठेस पहुंचाने और लज्जाजनक संवाद प्रस्तुत करने के लिए इसके खिलाफ सोशल मीडिया पर पहले से कड़ा विरोध चल रहा है।’

एएपीजीवाईए प्रदेश इकाई के अध्यक्ष श्याम घटानी ने कहा, ‘न सिर्फ नेपाली समुदाय, बल्कि फिल्म उद्योग से जुड़े हर व्यक्ति को नेपाली बोलने वाले लाखों लोगों के इस अपमान की निंदा करनी चाहिए।’ संगठन ने एनएचआरसी और केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय से इस मामले पर ‘ठोस’ फैसला लेने की अपील की है।

रासुका के तहत हो कार्रवाई: भाजपा विधायक
वहीं, उप्र की लोनी सीट से भाजपा विधायक नंदकिशोर गुर्जर ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है कि ‘पाताल लोक’ वेब सीरीज में सनातन धर्म की गलत छवि पेश की गई है। विधायक ने आरोप लगाया है कि वेब सीरीज में भारतीय एजेंसियों का गलत चित्रण किया गया है। साथ ही तस्वीरों के साथ छेड़छाड़ कर विभिन्न जातियों का गलत चित्रण कर उनके बारे में अमर्यादित शब्दों का उपयोग किया गया है।

भाजपा विधायक ने कहा कि जो धर्म चींटी को भी आटा डालने की शिक्षा देता है और विश्व के कल्याण के लिए प्रार्थना करना सिखाता है, उसे मॉबलिचिंग जैसी घटनाओं से जोड़कर छवि खराब करने की कोशिश की जा रही है। विधायक नंदकिशोर गुर्जर ने कहा कि वेब सीरीज में भारत की जांच एजेंसी पर कई सवाल खड़े कर पाकिस्तानी एजेंसी को क्लीन चिट देने की कोशिश की गई है। उन्होंने कहा कि इससे बड़ा कोई राष्ट्रद्रोह नहीं हो सकता। उन्होंने रासुका के तहत कार्रवाई की मांग की है।