निर्देशक विवेक रंजन अग्निहोत्री
निर्देशक विवेक रंजन अग्निहोत्री

मुंबई/दक्षिण भारत। ‘वोकल फ़ॉर लोकल’ पर जोर देते हुए निर्देशक विवेक रंजन अग्निहोत्री ने अपनी आगामी फ़िल्म ‘द लास्ट शो’ में भारत की लोक नाट्य कलाओं को मौका दिया है। विवेक रंजन एक ऐसे शख्स के रूप में जाने जाते हैं जो बेबाक हैं और अपने मन की बात कहने से हिचकते नहीं।

वे अपनी फिल्मों में हमेशा स्थानीय कलाकारों को कला दिखाने का मौका देते हैं। ‘द बुद्धा इन ए ट्रैफिक जाम’ के निर्देशक भोपाल की कव्वाली लोक कलाकारों को अपनी आगामी फिल्म ‘द लास्ट शो’ में मौका दे रहे हैं।

सूत्रों के अनुसार, निर्देशक विवेक रंजन अभिनेता अनुपम खेर और सतीश कौशिक के साथ अपनी अगली फिल्म ‘द लास्ट शो’ की शूटिंग शुरू करने के लिए भोपाल पहुंच चके हैं। वहां के लोक कलाकारों ने भी निर्देशक से मुलाकात की, जो शहर के शौकत महल में अनुपम खेर के साथ शूटिंग कर रहे थे।

लोक कलाकारों ने एक कव्वाली निर्देशक को समर्पित की। विवेक रंजन को कलाकारों का प्रदर्शन बहुत पसंद आया। उन्होंने भोपाल के पुराने और भूले हुए कव्वाली समूहों के पुनरुद्धार के बारे में कुछ करने का फैसला किया।

ताशकंद फाइल्स के डायरेक्टर विवेक रंजन ने कहा, ‘द लास्ट शो’ फ़िल्म भारत की मरने वाली कलाओं जैसे लोक रंगमंच, कव्वाली, ब्रास बैंड आदि को आदरांजलि है। मैंने इन पुराने कलाकारों को खोजने के लिए कड़ी मेहनत की है, जो गुमनामी में खो गए और किसी को भी इनकी परवाह नहीं है। आपने इस कव्वाली समूह के बारे में नहीं सुना होगा, लेकिन वे अपनी कला के स्वामी हैं।

‘द लास्ट शो’ अनुपम खेर और सतीश कौशिक की 45 साल की दोस्ती साझा करेगी। फिल्म का निर्माण अनुपम खेर, रूमी जाफरी, सतीश कौशिक और विवेक रंजन अग्निहोत्री द्वारा संयुक्त रूप से किया जाएगा।