प्रतीकात्मक चित्र
प्रतीकात्मक चित्र

साओ पाउलो/एपी। ब्राजील के स्वास्थ्य नियामक ने ‘प्रतिकूल और गंभीर प्रभाव’ वाली घटना के मद्देनजर कोरोना वायरस के संभावित चीनी टीके ‘कोरोनावैक’ का चिकित्सकीय परीक्षण रोक दिया है।

फैसले की सूचना सोमवार रात को ब्राजीली स्वास्थ्य नियामक ‘एनविजा’ की वेबसाइट पर दी गई। इससे टीके के उत्पादन में शामिल पक्ष भी आश्चर्यचकित हैं।

कोविड-19 के इस संभावित टीके को चीनी फार्मास्युटिकल कंपनी साइनोवैक ने विकसित किया और ब्राजील में इसका ज्यायदातर उत्पादन साओ पाउलो स्थित सरकारी संस्थान बुटानटैन इंस्टीट्यूट करेगा।

साओ पाउलो की प्रांतीय सरकार ने एक बयान में कहा कि उसे ‘खेद है कि उसे इसकी सूचना एनविजा से सीधे नहीं बल्कि प्रेस से मिली, जैसा सामान्य तौर पर इस प्रकृति के चिकित्सकीय परीक्षण में होता है।’

बुटानटैन ने एक बयान में कहा कि वह एनविजा के फैसले से स्तब्ध है और मंगलवार को इस मामले में संवाददाता सम्मेलन करेगा।

उल्लेखनीय है कि कोरोनावैक को लेकर ब्राजील में पहले ही विवाद है और स्वयं राष्ट्रपति जेयर बोलसोनारो ने इसके रक्षात्मक प्रभाव को लेकर आशंका प्रकट की है।

यह परीक्षण ऐसे समय रोका गया है जब साओ पाउलो कोरोनावैक की 40 करोड़ खुराक बनाने के लिए कच्चा माल आयात कर रहा है और 27 नवंबर से देश में इसकी खेप पहुंचनी शुरू हो जाएगी।