बेंगलूरु/भाषा। कोरोना वायरस के संक्रमण के प्रसार के बीच विख्यात नेत्र विशेषज्ञ के भुजंग शेट्टी ने सलाह दी है कि जो लोग आंखों में लेंस लगाते हैं, वे एहतियातन चश्मे का इस्तेमाल शुरू करें।

नारायण नेत्रालय के चेयरमैन शेट्टी ने कहा कि घातक कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम के लिए एहतियात के तौर पर चेहरे पर मास्क लगाना आवश्यक है, लेकिन बहुत से लोगों को अब यह पता नहीं है कि कोरोना वायरस आंखों के रास्ते हमारे शरीर में प्रवेश कर सकता है। आंखों पर ग्लास अथवा ऐनक लगाने से इसके प्रसार को कम किया जा सकता है।

उनके अनुसार, यद्यपि इस बात की प्रबल संभावना है कि लोगों में कोरोना वायरस का संक्रमण मुंह और नाक के माध्यम से होता है, लेकिन इस संक्रमण के आंखों के माध्यम से भी होने की आशंका है।

शेट्टी ने कहा, एक दिन में इंसान आदतन जाने-अनजाने हर घंटे करीब 20 बार चेहरे और आंखों को छूता है। कांटेक्ट लेंस का इस्तेमाल करने वाले अपनी आंखों को और चेहरे को निर्बाध रूप से छूते हैं जिससे उनमें संक्रमण का खतरा अधिक हो सकता है। इसलिए यह परामर्श है कि स्थिति सामान्य होने तक आंखों में ग्लास अथवा ऐनक का इस्तेमाल करना चाहिए।

उन्होंने कहा कि मास्क की तरह चश्मा पहनना आपको कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाएगा। घर से बाहर निकलते समये हमें अतिरिक्त चौकस रहते हुए एहतियात के तौर पर सनग्लास भी पहनना चाहिए।