आयुर्वेद.. प्रतीकात्मक चित्र
आयुर्वेद.. प्रतीकात्मक चित्र

हरिद्वार/दक्षिण भारत। कोरोना वायरस की रोकथाम के लिए विश्व के अनेक संस्थानों में शोध कार्य जारी हैं और सबका ध्यान इस ओर है कि ऐसी दवा कब आएगी जो वायरस से हमारे स्वास्थ्य की रक्षा करे।

इस बीच, पतंजलि आयुर्वेद के सह-संस्थापक आचार्य बालकृष्ण के एक दावे ने सबका ध्यान आकर्षित किया है। ‘आज तक’ की एक रिपोर्ट के अनुसार, आचार्य बालकृष्ण ने दावा किया है कि पतंजलि कोरोना वायरस की दवा बनाने में कामयाब हो गई है।

रिपोर्ट में आचार्य के हवाले से यह कहा गया है कि इस दवा के प्रभाव से कई मरीज ठीक भी हो चुके हैं। ऐसे मरीजों की तादाद एक हजार से ज्यादा बताई गई है। रिपोर्ट में बताया गया है कि विभिन्न स्थानों पर जिन मरीजों को यह दवा दी गई, उनमें से 80 प्रतिशत स्वस्थ हो गए हैं।

रिपोर्ट के अनुसार, जब पड़ोसी देश चीन सहित कई देशों में कोरोना संकट गहराने लगा, तब पतंजलि के हर विभाग को कोरोना महामारी के मद्देनजर दवा पर काम करने की जिम्मेदारी दे दी गई, जिसमें अब कामयाबी मिली है।

उक्त रिपोर्ट के अनुसार, आचार्य बालकृष्ण ने कहा है कि इस दवा के निर्माण में वेदों, शास्त्रों और विज्ञान के नियमों का पालन करते हुए आयुर्वेदिक सामग्री का उपयोग किया गया। इसके लिए पतंजलि के सैकड़ों वैज्ञानिकों ने मोर्चा संभाला और दवा तैयार कर ली गई।

बता दें कि अब तक विभिन्न संस्थान यह दावा कर चुके हैं कि उनके द्वारा तैयार की जा रही दवा परीक्षण के चरण में है और परिणाम उत्साहित करने वाले हैं। हालांकि, दवा निर्माण को लेकर वैज्ञानिकों के विचारों में मतभेद भी हैं। ऐसे में किसी भी दवा का सेवन चिकित्सकों की सलाह और देखरेख में ही करना चाहिए।