कश्मीर के लोगों में भय उत्पन्न करने का प्रयास कर रही हैं एनसी, पीडीपी, कांग्रेस: भाजपा

जम्मू/भाषा। भाजपा की जम्मू-कश्मीर इकाई ने शनिवार को नेशनल कॉन्फ्रेंस, पीडीपी और कांग्रेस के नेताओं पर आरोप लगाया कि वे लोगों के बीच जानबूझकर घबराहट उत्पन्न करने का प्रयास कर रहे हैं क्योंकि वे स्वयं डरे हुए हैं। भाजपा ने कहा कि सामान्य व्यक्ति को कोई डर नहीं है।

भाजपा की प्रदेश इकाई के अध्यक्ष रवींद्र रैना ने कहा कि देश का प्रत्येक सामान्य नागरिक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के शासन में सुरक्षित है। उन्होंने कहा कि मोदी जम्मू-कश्मीर के लोगों के घावों पर मरहम लगा रहे हैं।

रैना ने यहां भाजपा की एक कोर समूह की बैठक की अध्यक्षता करने के बाद संवाददाताओं से कहा, घाटी में कुछ नेता आधी रात में राज्यपाल (सत्यपाल मलिक) का दरवाजा खटखटा रहे हैं क्योंकि वे डरे हुए हैं…राज्यपाल ने भी स्पष्ट किया है कि जो भ्रष्ट हैं वे स्वयं को बचा नहीं सकते। जिनके इरादे बुरे हैं और जो विश्वासघात में लिप्त रहे हैं और जिन्होंने गरीबों का पैसा लूटा है और अपनी तिजोरी भरी है, वे काफी चिंतित हैं।

पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती, जम्मू-कश्मीर पीपुल्स मूवमेंट प्रमुख शाह फैजल और पीपुल्स कॉन्फ्रेंस के नेताओं सज्जाद लोन और इमरान रजा अंसारी वाले एक प्रतिनिधिमंडल ने शुक्रवार रात में राज्यपाल से मुलाकात की। इस प्रतिनिधिमंडल ने राज्यपाल से यह मुलाकात ऐसे समय की जब राज्य के विशेष दर्जे के संबंध में कुछ बड़े निर्णय को लेकर अटकलें तेज हुई हैं।

भाजपा नेता ने यद्यपि इस बात पर जोर दिया कि राज्य को विशेष दर्जा देने वाले संविधान के अनुच्छेद 370 और 35ए अलगाववाद और आतंकवाद के मुख्य कारण हैं। उन्होंने दावा किया, ये प्रावधान महिलाओं के प्रति भेदभावपूर्ण भी हैं और इन अनुच्छेदों की आड़ में सामान्य नागरिकों का खून चूसा गया, जम्मू-कश्मीर बैंक और केंद्रीय कोष को कुछ परिवारों द्वारा लूटा गया।

उन्होंने कहा कि नेशनल कॉन्फ्रेंस, पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी और कांग्रेस जैसे राजनीतिक दल निहित हितों के चलते अफवाह फैला रहे हैं और लोगों में भय उत्पन्न कर रहे हैं। उन्होंने कहा, सामान्य व्यक्ति को कोई भय नहीं है और मोदी के नेतृत्व में प्रत्येक आम नागरिक देश में सुरक्षित है। रैना ने कहा कि मोदी ने लोगों का दुख साझा करने के लिए पूर्व में कई बार जम्मू-कश्मीर का दौरा किया।

उन्होंने कहा, अटल बिहारी वाजपेयी के बाद, वह एकमात्र प्रधानमंत्री हैं जो लोगों के घावों पर मरहम लगा रहे हैं और हमें उन पर और उनकी सरकार पर पूरा भरोसा होना चाहिए। जम्मू-कश्मीर के संबंध में यह सरकार जो भी निर्णय लेगी वह जम्मू, लद्दाख और कश्मीर तीनों क्षेत्र के लोगों के हित में होगा। रैना ने इसके साथ ही लोगों से आह्वान किया कि वे पूरे राज्य में स्वतंत्रता दिवस पूरे उत्साह से मनाएं और अपने घरों पर तिरंगा फहराएं।

उन्होंने राज्य में अतिरिक्त सुरक्षा बलों की तैनाती को लेकर चिंताओं को खारिज करते हुए कहा कि यह कदम सुरक्षा चिंताओं के मद्देनजर उठाया गया है क्योंकि आतंकवादियों के आत्मघाती दस्ते पाकिस्तान के इशारे पर एक बड़े हमले को अंजाम देने के लिए राज्य में घुसपैठ कर चुके हैं।

उन्होंने कहा, हमें जाति, पंथ और धर्म से ऊपर उठकर चुनौती का मुकाबला करने और दुश्मन के षड्यंत्र को विफल करने में हमारे सुरक्षा बलों की मदद करने की आवश्यकता है।

उन्होंने कहा कि वे ‘हमारे अपने सुरक्षा बल हैं जो कि लोगों की सुरक्षा के लिए हैं। वे चीन, अमेरिका और रूस जैसे किसी अन्य देश से नहीं आए हैं…यदि सुरक्षा बल नहीं होते तो पाकिस्तान जम्मू-कश्मीर को कब्रिस्तान में बदल देता। हम आज यदि खुशी से रह रहे हैं तो यह सुरक्षा बलों के कारण है।

सेना ने शुक्रवार को खुफिया सूचनाओं के हवाले से कहा कि पाकिस्तानी आतंकवादी अमरनाथ यात्रा को निशाना बनाने की योजना बना रहे हैं। इसके बाद जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने तीर्थयात्रियों और पर्यटकों से कहा कि वे घाटी में अपना प्रवास कम करके तुरंत ही घाटी छोड़ दें।