नई दिल्ली। राजस्व सचिव हसमुख अधिया ने मंगलवार को कहा कि रेस्तरां, होटल और भोजनालय को अपनी व्यंजन सूची में खाने के सामान के दाम घटाने चाहिए ताकि जीएसटी के तहत कच्चे माल पर दिए गए कर की वापसी (इनपुट टैक्स क्रेडिट) का लाभ प्रतिबिंबित हो। उन्होंने यह भी कहा कि जीएसटी खाने के पूरे बिल पर लगाया जाएगा। इसमें रेस्तरां में सेवा शुल्क शामिल है। वहीं अल्कोहल या अल्कोहल उत्पाद के मूल्य में वैट लगेगा। पहले बिल में सेवा कर लगता था लेकिन होटल या रेस्तरां परिचालकों द्वारा इस्तेमाल में लाए गए कच्चे माल पर कर के भुगतान को अंतिम बिल के कर में नहीं घटाया जाता था। इसे इनपुट टैक्स क्रेडिट कहा जाता है लेकिन अब यह सुविधा माल एवं सेवा कर (जीएसटी) में उपलब्ध है।