प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

आगरा/दक्षिण भारत। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को आगरा मेट्रो प्रोजेक्ट निर्माण का वर्चुअल उद्घाटन करते हुए कहा ​कि पिछली सदी के कानूनों को लेकर अगली सदी का निर्माण नहीं किया जा सकता। पिछली सदी में उपयोगी रहे कानून अगली सदी के लिए ‘बोझ’ बन जाते हैं, इसीलिए सुधार की प्रक्रिया लगातार चलनी चाहिए।

प्रधानमंत्री की इस टिप्पणी को कृषि कानूनों के सन्दर्भ में देखा जा रहा है जिनका किसान विरोध कर रहे हैं। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि आगरा के पास बहुत पुरातन पहचान तो हमेशा रही है। अब इसमें आधुनिकता का नया आयाम जुड़ रहा है। सैकड़ों वर्षों का इतिहास संजोए यह शहर अब 21वीं सदी के साथ कदमताल मिलाने के लिए तैयार हो रहा है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि आगरा में स्मार्ट सुविधाएं विकसित करने के लिए पहले ही लगभग 1,000 करोड़ रुपए के प्रोजेक्ट्स पर काम चल रहा है। पिछले साल जिस कमांड एंड कंट्रोल सेंटर का शिलान्यास करने का मुझे मौका मिला था, वो भी अब बनकर तैयार है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि वर्ष 2014 के बाद के छह वर्षों में देश में 450 किमी से ज्यादा मेट्रो लाइन देशभर में ऑपरेशनल हैं और लगभग 1,000 किमी मेट्रो लाइन पर तेजी से काम चल रहा है। जब आप साहस और समर्पण के साथ आगे बढ़ते हैं, तो कोई भी बाधा रोक नही सकती। भारत का सामान्य युवा, भारत के छोटे शहर आज यही साहस और समर्पण दिखा रहे हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि आधुनिक सुविधाएं और आधुनिक कनेक्टीविटी मिलने से पश्चिमी उप्र का ये सामर्थ्य और बढ़ रहा है। देश का पहला रैपिड रेल ट्रांसपोर्ट सिस्टम मेरठ से दिल्ली के बीच बन रहा है। दिल्ली-मेरठ के बीच 14 लेन का एक्सप्रेस-वे भी जल्द ही इस क्षेत्र के लोगों को सेवा देने लगेगा।

प्रधानमंत्री ने कहा कि यहां की भूमि और किसानों में अपार सामर्थ्य है। पशुधन के मामले में भी ये क्षेत्र देश में अग्रणी है। ऐसे में यहां डेयरी और फ़ूड प्रोसेसिंग से जुड़े उद्योगों के लिए बहुत संभावनाएं हैं। सरकार ने न सिर्फ ई-वीजा स्कीम में शामिल देशों की संख्या में काफी वृद्धि की है, इसके साथ ही होटल रूम टैरिफ पर टैक्स को भी काफी कम किया है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि बेहतर इंफ्रास्ट्रक्चर-बेहतर कनेक्टिविटी का सबसे अधिक लाभ हमारे टूरिज्म सेक्टर को होता है। मेरा ये हमेशा से मत रहा है कि टूरिज्म एक ऐसा सेक्टर है, जिसमें हर किसी के लिए कमाई के साधन हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि स्वदेश दर्शन और प्रसाद जैसी योजनाओं के माध्यम से भी टूरिस्टों को आकर्षित करने के प्रयास किए जा रहे हैं। सरकार के प्रयासों से भारत अब ट्रेवल और टूरिज्म कॉम्पीटीटिवनेस इन्डेक्स में 34वें नंबर पर आ गया है। साल 2013 में भारत इसी इन्डेक्स में 65वीं रैंक पर था।

प्रधानमंत्री ने कहा कि अब एक संपूर्णता की सोच से रिफॉर्म्स किए जा रहे हैं। शहरों के विकास को ही लीजिए। शहरों के विकास के लिए हमने चार स्तरों पर काम किया है। बीते समय से चली आ रही समस्याओं का समाधान हो, जीवन ज्यादा सुगम हो, ज्यादा से ज्यादा निवेश हो और आधुनिक टेक्नोलॉजी का उपयोग अधिक हो।

प्रधानमंत्री ने कहा कि रियल एस्टेट सेक्टर की क्या स्थिति थी इससे हम भलीभांति परिचित हैं। घर बनाने वालों और घर खरीदारों के बीच भरोसे की एक खाई आ चुकी थी। कुछ गलत नीयत वाले लोगों ने पूरे रियल एस्टेट को बदनाम करके रखा था, हमारे मध्यम वर्ग को परेशान करके रखा था।

प्रधानमंत्री ने कहा कि इस परेशानी को दूर करने के लिए रेरा का कानून लाया गया। हाल में आईं कुछ रिपोर्ट्स बताती हैं कि इस कानून के बाद मिडिल क्लास के घर तेज़ी से पूरे होने शुरू हुए हैं। अमृत मिशन के तहत देश के सैकड़ों शहरों में पानी, सीवर जैसे इंफ्रास्ट्रक्चर को अपग्रेड किया जा रहा है।

शहरों में सार्वजनिक टॉयलेट्स की बेहतर सुविधाएं हों, वेस्ट मैनेजमेंट की आधुनिक व्यवस्था हो, इसके लिए स्थानीय निकायों को मदद दी जा रही है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि आज शहरी गरीब को मुफ्त इलाज मिल रहा है और मध्यम वर्ग को सस्ती दवाई मिल रही है, सस्ती सर्जरी उपलब्ध कराई जा रही है। सरकार की कोशिशों से बिजली से लेकर मोबाइल फोन तक उस पर खर्च बहुत कम हुआ है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि विशेष तौर पर देश की बहनों और बेटियों तक जिस प्रकार सरकारी लाभ पहुंचा है, वो सचमुच में अगर बारीकी से देखेंगे तो आपको भी संतोष देगा। पहले की तुलना में आप में भी नया विश्वास भरेगा।

प्रधानमंत्री ने कहा कि देश की बहनों-बेटियों, युवाओं, किसानों, श्रमिकों, कर्मचारियों, व्यापारियों का विश्वास बीते हर चुनाव में दिख रहा है। उप्र सहित देश के कोने-कोने में चुनाव नतीजों में यह विश्वास झलक रहा है। दो-तीन दिन पहले तेलंगाना में, हैदराबाद में गरीब और मध्यम वर्ग ने सरकार के प्रयासों को अभूतपूर्व आशीर्वाद दिया है। आपका साथ और आपका समर्थन ही मेरी प्रेरणा शक्ति है। देशवासियों की छोटी से छोटी खुशी, मुझे नए-नए काम करने की हिम्मत देती है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि ये जो रिफार्म्स बीते कुछ समय से किए जा रहे हैं, उनसे देश में एक नया आत्मविश्वास आया है। विशेष तौर पर देश की बहनों और बेटियों तक जिस प्रकार सरकारी लाभ पहुंचा है, अगर बारीकी से देखेंगे तो वो आपको भी संतोष देगा। पहले की तुलना में आप में भी नया विश्वास भरेगा।