‘जुमलाबाजी’ को लेकर राहुल पर नड्डा का प्रहार- गरीबी हटाओ का नारा किसने दिया, गरीबी हटी क्या?

जनसभा को संबोधित करते हुए जेपी नड्डा। फोटो स्रोत: भाजपा ट्विटर अकाउंट।
जनसभा को संबोधित करते हुए जेपी नड्डा। फोटो स्रोत: भाजपा ट्विटर अकाउंट।

धर्मापुर/दक्षिण भारत। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने मंगलवार को असम के धर्मापुर में पार्टी की चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि कांग्रेस केरल में मुस्लिम लीग के साथ हाथ मिलाती है, बंगाल में फुरफुरा शरीफ के साथ हाथ मिलाती है और यहां चाय बागान में चुप रहती है, लेकिन निचले इलाके में जाकर बदरुद्दीन का गुणगान करती है।

नड्डा ने कहा कि राहुल गांधी बोलते हैं कि असम की पहचान बदरुद्दीन अजमल हैं। असम की पहचान हैं तो भूपेन हजारिका हैं। असम की पहचान हैं तो श्रीमंत शंकरदेवजी हैं। उन्होंने कहा कि असम को अगले पांच साल में बाढ़ से मुक्त किया जाएगा। असम में अरुणोदय योजना के अंतर्गत 30 लाख महिलाओं को 3 हजार रुपए देने का काम करेंगे।

नड्डा ने कहा कि हम स्वरोजगार के लिए असम को सबसे बड़ा केंद्र बनाएंगे। इसके लिए स्वामी विवेकानंद असम यूथ एम्प्लॉयमेंट योजना के अंतर्गत 2 लाख युवाओं को स्वरोजगार के योग्य बनाएंगे। यह हमारा संकल्प है।

नड्डा ने कहा कि हम असम के गांवों को आत्मनिर्भर बनाएंगे। यहां खेती, पॉल्ट्री सहित हर प्रकार के व्यवसायों को बढ़ाने का काम भाजपा की सरकार करेगी। 50 साल से असम बोडो आंदोलन की आग में जल रहा था। इस आंदोलन में हजारों लोगों की जान गई, हजारों घर उजड़ गए। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इच्छाशक्ति दिखाई, गृह मंत्री अमित शाह ने उसको रूप दिया और 50 साल का बोडो आंदोलन, बोडो समझौते में परिवर्तित हो गया।

नड्डा ने कहा कि श्रीमंत शंकर देवजी के जन्मस्थान के विकास के लिए 188 करोड़ रुपए भारत सरकार ने दिए हैं। असम दर्शन के तहत लगभग 9,000 नामघरों का काम शुरू हो गया है।इंफ्रास्ट्रक्चर के क्षेत्र में असम में 11,500 किमी सड़कें बनीं, 6 ब्रिज बने और गोपीनाथ बोरदोलोई एयरपोर्ट, गुवाहाटी पर 1,232 करोड़ रुपए के खर्च से विकास किया जा रहा है।

नड्डा ने कहा कि आज राहुल गांधी का ट्वीट था- जुमलाबाजी और प्रगति में अंतर होता है। राहुलजी, यही तो हम कह रहे हैं कि जुमला तो आपकी दादी, पापा-मम्मी ने किया। आप बताइए, गरीबी हटाओ का नारा किसने दिया? गरीबी हटी क्या? जुमला किसका हुआ?