logo
मंत्रिमंडल ने महासागरीय सेवाओं से संबंधित ओ-स्मार्ट योजना को 2026 तक जारी रखने को मंजूरी दी
पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के अनुसार, इस योजना में सात उप-योजनाएं शामिल हैं
 
पृथ्‍वी विज्ञान मंत्रालय की 2,177 करोड़ रुपए की लागत वाली शीर्ष योजना "समुद्री सेवाएं, मॉडलिंग, अनुप्रयोग, संसाधन और प्रौद्योगिकी (ओ-स्मार्ट)" को 2021 से 2026 की अवधि तक जारी रखने की मंजूरी दी है

नई दिल्ली/भाषा। केंद्रीय मंत्रिमंडल ने "महासागर सेवाएं, मॉडलिंग, अनुप्रयोग, संसाधन और प्रौद्योगिकी (ओ-स्मार्ट)" योजना को जारी रखने को बुधवार को मंजूरी दे दी। सरकारी बयान के अनुसार, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में इस आशय के प्रस्ताव को मंजूरी दी गई।

इसमें कहा गया है कि मंत्रिमंडल ने पृथ्‍वी विज्ञान मंत्रालय की 2,177 करोड़ रुपए की लागत वाली शीर्ष योजना "समुद्री सेवाएं, मॉडलिंग, अनुप्रयोग, संसाधन और प्रौद्योगिकी (ओ-स्मार्ट)" को 2021 से 2026 की अवधि तक जारी रखने की मंजूरी दी है।

पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के अनुसार, इस योजना में सात उप-योजनाएं शामिल हैं। इसमें समुद्री प्रौद्योगिकी, समुद्री मॉडलिंग और परामर्श सेवाएं (ओएमएएस), समुद्री अवलोकन नेटवर्क (ओओएन), समुद्री निर्जीव (नॉन-लिविंग) संसाधन, समुद्री सजीव संसाधन एवं इको-सिस्टम (एमएलआरई), तटीय अनुसंधान एवं अनुसंधान पोतों का संचालन और रख-रखाव शामिल है।

इन उप-योजनाओं को राष्ट्रीय समुद्री प्रौद्योगिकी संस्थान (एनआईओटी), चेन्नई, भारतीय राष्ट्रीय समुद्री सूचना सेवा केंद्र (आईएनसीओआईएस), हैदराबाद, राष्ट्रीय ध्रुवीय एवं समुद्री अनुसंधान केंद्र (एनसीपीओआर), गोवा, समुद्री सजीव संसाधन एवं इकोलॉजी केंद्र (सीएमएलआरई), कोच्चि, और राष्ट्रीय तटीय अनुसंधान केंद्र (एनसीसीआर), चेन्नई जैसे मंत्रालय के स्वायत्त/संबद्ध संस्थानों द्वारा कार्यान्वित किया जा रहा है।

बयान के अनुसार, हमारे महासागरों के निरंतर निरीक्षण, प्रौद्योगिकियों के विकास तथा समुद्री संसाधनों (सजीव और निर्जीव दोनों) के दोहन के लिए और समुद्र विज्ञान में अग्रणी अनुसंधान को बढ़ावा देने के लिए अन्वेषी सर्वेक्षणों के आधार पर सतत पूर्वानुमान और सेवाएं प्रदान करने के उद्देश्य से समुद्र विज्ञान अनुसंधान गतिविधियों को शामिल करते हुए ओ-स्मार्ट योजना को लागू किया जा रहा है।

सरकारी बयान के अनुसार, ‘अगले पांच वर्षों (2021-26) में समुद्री क्षेत्र के लिए अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी उपयोग करके, विभिन्न तटीय हितधारकों के लिए पूर्वानुमान और चेतावनी सेवाएं प्रदान करके समुद्री जीवन के लिए संरक्षण रणनीति की दिशा में जैव विविधता तथा तटीय प्रक्रिया को समझने की दिशा में चल रही गतिविधियों को मजबूत बनाने में यह योजना व्यापक सहयोग प्रदान करेगी।’

इस योजना के तहत समुद्री पर्यावरण में काम कर रहे समुदायों और कई क्षेत्रों को लाभान्वित करने वाली समुद्री चेतावनी सेवाओं और प्रौद्योगिकियों के माध्यम से राष्ट्रीय सकल घरेलू उत्पाद में महत्वपूर्ण योगदान दिया जा रहा है और विशेष रूप से भारत के तटीय राज्यों में इसे निरंतर जारी रखा जा रहा है।

देश-दुनिया के समाचार FaceBook पर पढ़ने के लिए हमारा पेज Like कीजिए, Telagram चैनल से जुड़िए