कांग्रेस झूठी घोषणाओं का भोंपू बनकर रह गई: मोदी

असम के चबुआ में जनसभा को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। फोटो स्रोत: ​भाजपा ट्विटर अकाउंट।
असम के चबुआ में जनसभा को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। फोटो स्रोत: ​भाजपा ट्विटर अकाउंट।

चबुआ/दक्षिण भारत। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार को असम पहुंचे। यहां उन्होंने चबुआ में भाजपा की चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए कांग्रेस पर खूब शब्दप्रहार किए। मोदी ने कहा कि चबुआ के तो नाम में ही चाय है। यहां रोपा गया चाय का पौधा आज दुनिया में कहां-कहां अपनी सुगंध फैला रहा है, यह हम सभी जानते हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि असम के नौजवानों को नए अवसर देने के लिए, उद्योगों के लिए बेहतर माहौल बनाने के लिए, महिलाओं को और सशक्त करने के लिए, किसानों की आय बढ़ाने के लिए भाजपा सरकार निरंतर काम कर रही है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि मैं असम में या पूर्वोत्तर के अन्य राज्यों में जाता हूं, बहुत गौरव से वहां की संस्कृति से जुड़कर मुझे आनंद आता है। अब जैसे मुझे ये गमछा पहनाया गया, मेरे लिए बड़े गर्व और सम्मान का विषय होता है। लेकिन कांग्रेस इसका भी मजाक उड़ाती है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि एक चायवाला आपके दर्द को नहीं समझेगा तो कौन समझेगा। मैं विश्वास दिलाता हूं कि टी गार्डन्स में काम करने वाले श्रमिक साथियों का जीवन स्तर सुधारने के लिए राजग सरकार का अभियान और तेज किया जाएगा।

प्रधानमंत्री ने कहा कि यहां पांच साल पहले ब्रह्मपुत्र पर पुलों की स्थिति क्या थी, यह आप भलीभांति जानते हैं। नए ब्रिज तो छोड़िए जो सालों पहले अटलजी की सरकार ने शुरू किए थे, उन्हें भी कांग्रेस सरकारों ने लटका दिया था। हमने इन प्रोजेक्ट्स को तेज़ी से पूरा किया।

प्रधानमंत्री ने कहा कि पिछले पांच सालों में राजग सरकार ने असम के विकास के लिए एक मजबूत ठोस नींव रखी है। इस नींव पर असम के तेज विकास की सशक्त इमारत खड़ी करने का समय है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि कांग्रेस और उसके साथी इसी समय का लाभ उठाना चाहते हैं। बीते पांच वर्षों में असम ने जो हासिल किया है, अब वो उसे लूटना चाहते हैं। इसलिए आपको सतर्क रहना है। आपको याद रखना है कि कांग्रेस अपने फायदे के लिए किसी को भी दांव पर लगा सकती है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि आपको याद रखना है कि यह वही कांग्रेस है, जिसने मूल निवासियों को जमीन का अधिकार देने के लिए कभी भी गंभीर कदम नहीं उठाए। यहां के मूल निवासियों को जमीन के पट्टे देने का काम सर्बानंदजी के नेतृत्व में राजग की सरकार ने ही शुरू किया।

प्रधानमंत्री ने कहा कि कभी देश की सबसे बड़ी पार्टी कांग्रेस, आज सिमटती जा रही है। कारण बिल्कुल साफ है। कांग्रेस में प्रतिभा के प्रति सम्मान नहीं है, सत्ता का लालच सर्वोपरि है। सत्ता के लिए ये किसी का भी साथ ले सकते हैं, किसी का भी साथ दे सकते हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि एक तरफ हमारी सरकार, सबका साथ-सबका विकास-सबका विश्वास के पवित्र मंत्र पर काम कर रही है, वहीं दूसरी तरफ, कांग्रेस आज झूठी घोषणाओं का भोंपू बनकर रह गई है। उसकी ये सच्चाई देश भर के लोग देख भी रहे हैं, समझ भी रहे हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि असम में शांति बनाए रखने के लिए, स्थिरता बनाए रखने के लिए भाजपा सरकार की, राजग सरकार की निरंतर जरूरत है। यह समय असम के भविष्य के लिए बहुत अहम है। यह समय आत्मविश्वास का है, आत्मनिर्भरता का है।