सीरम इंस्टीट्यूट, पुणे के सीईओ अदार पूनावाला द्वारा ट्विटर पर वैक्सीन की यह तस्वीर पोस्ट की गई।
सीरम इंस्टीट्यूट, पुणे के सीईओ अदार पूनावाला द्वारा ट्विटर पर वैक्सीन की यह तस्वीर पोस्ट की गई।

नई दिल्ली/दक्षिण भारत। कोरोना की वैक्सीन को लेकर अच्छी खबर है। ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (डीसीजीआई) ने सीरम इंस्टीट्यूट की वैक्सीन कोविशील्ड और भारत बायोटेक की वैक्सीन कोवैक्सीन के आपातकाल इस्तेमाल को अंतिम मंजूरी दे दी है। साथ ही, जायडस कैडिला की ‘जाइकोव-डी’ वैक्सीन को तीसरे चरण के क्लिनिकल ट्रायल के लिए भी मंजूरी दे दी गई है।

नए साल में आई इस खबर से देशभर में लोग उत्साहित हैं और सोशल मीडिया पर इस कदम की चर्चा जोरों पर है। अब कोरोना महामारी के खिलाफ देश की लड़ाई और तेज होगी। साथ ही महामारी काबू में आने के बाद हालात में सुधार होने की उम्मीद है।

इस संबंध में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट किया, ‘डीसीजीआई ने सीरम इंस्टीट्यूट के कोविशील्ड और भारत बायोटेक के कोवैक्सीन को मंजूरी दे दी है। भारत को बधाई। हमारे सभी मेहनती वैज्ञानिकों और इनोवेटर्स को बधाई।’

सीरम इंस्टीट्यूट, पुणे के सीईओ अदार पूनावाला ने भी ट्वीट कर यह अच्छी खबर साझा की है। उन्होंने कहा, ‘सभी को नया साल मुबारक। सीरम इंस्टीट्यूट ने वैक्सीन एकत्रीकरण के साथ जो जोखिम लिया, उसने आखिरकार अदायगी कर दी। भारत की पहली कोविड-19 वैक्सीन कोविशील्ड को मंजूरी मिल गई है। सुरक्षित और प्रभावी यह वैक्सीन आने वाले हफ्तों में रोल-आउट के लिए तैयार है।’