अंग दान को प्रेरित करती डॉ. उपासना चौधरी

डॉ. उपासना चौधरी
डॉ. उपासना चौधरी

.. रमेश सर्राफ धमोरा ..
9414255034

डॉ. उपासना चौधरी अंगदान जन जागृति एवं जीवनदान रथयात्रा अभियान चला रही हैं। इस रथयात्रा ने राजस्थान के 15 जिलो में जाकर लोगों को अंगदान को लेकर जागरूक करने का काम किया है। डॉ. उपासना का कहना है कि देश में प्रति वर्ष लाखों लोग अंगदान की कमी से मरते हैं। अंगदान रथयात्रा के माध्यम से लोगों के संकोच एवं प्रश्नों को दूर करके उनको अंग दान की महत्ता के बारे में जागरूक किया जा रहा है। एक व्यक्ति अंग दान करके 8-10 लोगों की जान बचा सकता है। जो व्यक्ति जीवन में कुछ नहीं करता है वह भी मृत्यु के पश्चात अपने अंगदान कर किसी का जीवन बचाने की एक मिसाल कायम कर सकता है।

डॉ. उपासना इस यात्रा के तहत गांवों में रात्रि चौपाल का आयोजन कर प्रोजेक्टर के माध्यम से विभिन्न चल चित्रों से अंगदान करने का महत्व समझाती हैं। रथयात्रा जिस भी ग्राम में रुकती है वहां जागरूकता मदद केंद्र लगाया जाता है जिसमें लोगों को अंगदान से संबंधित प्रश्नों का निवारण करने का प्रयास किया जाता है, उन्हें अंग दान देने की शपथ के लिए प्रेरित किया जाता है। अभी तक रथयात्रा के दौरान राजस्थान प्रदेश में 6000 किलोमीटर से अधिक दूरी तय करके 12 हजार से अधिक लोगों को अंगदान की शपथ दिलाकर अंगदान करने के प्रति जागरूक किया गया है।

चूरू मेडिकल कॉलेज में कार्यरत डॉक्टर उपासना चौधरी ने ही राजस्थान में पहली बार प्लाज्मा दान शिविर लगाने की परिकल्पना प्रस्तुत की थी। प्लाज्मा दान शिविर को राजस्थान सरकार ने एक मिसाल के रूप में स्वीकार किया था। इसलिए कोरोना को हरा कर स्वस्थ हो चुके लोगों द्वारा प्लाज्मा दान कर दूसरे पीड़ित लोगों की जिंदगी बचाने का एक अभियान चला था। इस अभियान में कोरोना से रिकवर हुए मरीजों ने पॉजिटिव मरीजों को रिकवर करने के लिए अपना प्लाज्मा दान किया। कोरोना मरीजों को ठीक करने में कामयाब साबित हुई प्लाज्मा थेरेपी को लेकर महात्मा गांधी स्वास्थ्य संस्थान जयपुर एवं एसएमएस मेडिकल कॉलेज जयपुर की ओर से झुंझुनू के बीडीके जिला अस्पताल में प्रदेश का पहला प्लाज्मा डोनेट कैंप लगाया गया था जो देश के अन्य प्रदेशों के लिए भी प्रेरणादायक बना।

डॉ. उपासना ने कहा… मैंने कोरोना कंट्रोल रूम में कोरोना की गंभीरता और बारीकियों को समझा। मैंने इमरजेंसी यूनिट में मरीजों को व बहुत सारे स्वास्थ्य कर्मियों को करोना से मरते हुए देखा। उस वक्त हम चिकित्साकर्मी खुद को असहाय महसूस करते थे। करोना की कोई दवाई नहीं होने के कारण लोगों की जान नहीं बचा पा रहे थे। जब विश्व स्वास्थ्य संगठन ने प्लाज्मा थेरेपी को कोविड-19 के खिलाफ असरदार बताया तो मैंने अपनी टीम के साथियों से चर्चा कर कोरोना प्रभावित लागों के प्राण बचाने के लिए प्लाज्मा शिविर लगावाकर सरकार का सहयोग करने की ठानी। प्लाज्मा थेरेपी में कोरोना सरवाइवर (जो कोरोना की जंग जीत चुके हैं) के खून का एक हिस्सा प्लाज्मा कहलाता है। उसमें करोना के खिलाफ लड़ने वाली एंटीबॉडी विकसित हो जाती है।

अगर वह एंटीबॉडी रूपी प्लाज्मा किसी कोविड-19 पीड़ित को चढ़ाया जाता है तो उसके ठीक होने की संभावना बढ़ जाती है। प्लाज्मा थेरेपी से जिस व्यक्ति का प्लाज्मा लिया जाता है उसके शरीर में किसी भी प्रकार की कोई कमजोरी या दुष्प्रभाव नहीं पड़ता है। उसके शरीर में 48 से 72 घंटे के अंदर पुनः प्लाज्मा विकसित हो जाता है। उसके द्वारा दिए गए प्लाज्मा से दो लोगों की जिंदगी बचाई जा सकती है।

कोरोना से ठीक हो चुके लोग डर के कारण प्लाज्मा दान करने के लिए आगे नहीं आते थे तब मैंने प्लाज्मा कैंप लगाने का फैसला लिया। प्लाज्मा दान करने के लिए लोगों को समझाने में बहुत दिक्कतों का सामना करना पड़ा। क्योंकि लोगों के लिए प्लाज्मा दान का विषय एकदम अलग था। लोगों में भय, अविश्वास बहुत था। कोविड-19 होने के बाद उन्हें बहुत सी शारीरिक व सामाजिक परेशानियों का सामना करना पड़ा था। इसलिए मैंने लोगों को फोन पर, सोशल मीडिया के माध्यम से विभिन्न प्रकार के वीडियो बनाकर समझाया एवं उनके मन में प्लाज्मा को लेकर जो भी भय, शंका, अविश्वास था उसे दूर किया।

मैंने जब राजकीय बीडीके अस्पताल झुंझुनू में पता किया तो पता चला कि यहां पर प्लाज्मा निकालने वाली मशीन ही नहीं है। फिर मैंने चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा से इस विषय पर चर्चा की और उनके सहयोग से मेडिकल कॉलेज जयपुर की टीम को झुंझुनू बुलाकर झुंझुनू में प्रदेश का प्रथम प्लाज्मा दान शिविर लगवाया जिसमें झुंझुनू एवं चूरू जिले के 48 कोरोना योद्धाओं ने प्लाज्मा दान कर एक अनूठी मिसाल पेश की थी। जो आगे चलकर एक राज्यस्तरीय मुहिम बनी। लोगों की मदद करने के लिए मैंने महात्मा गांधी स्वास्थ्य संस्थान झुंझुनू नाम से एक एनजीओ भी बनाया है। उसकी सहायता से मैंने अभी तक 200 से ज्यादा लोगों को प्लाज्मा दान करवा चुकी हूँ।

बीकानेर, सीकर, चूरू एवं जयपुर में हम प्लाज्मा शिविर लगा चुके हैं और बहुत से गंभीर करोना से ग्रसित व्यक्तियों की जान बचा चुके हैं। अब बहुत से लोग इमरजेंसी में रात को भी प्लाजमा दिलवाने के कॉल करते हैं। मैं उनकी पूरी मदद करती हूं। मैं अपने खर्चे पर लोगों की मदद कर रही हूं। मैं हर महीने अपनी तनख्वाह का आधा हिस्सा लोगों की भलाई के लिए खर्च कर रही हूं। मैं लोगों की मदद के लिए हमेशा तैयार रहती हूं। चाहे बात खून दिलाने की हो या फिर प्लाज्मा दान की हो या फिर अस्पताल में बेड दिलाना हो या इलाज करवाना हो, लोगों की मदद के लिए हम हमेशा तैयार रहते हैं और मदद करते हैं।