अनिल देशमुख ने वाजे को हर महीने 100 करोड़ रु. उगाही का दिया था लक्ष्य: परमबीर सिंह

महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख। फोटो स्रोत: इंस्टाग्राम वीडियो।
महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख। फोटो स्रोत: इंस्टाग्राम वीडियो।

मुंबई/दक्षिण भारत। मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह द्वारा मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को लिखे एक पत्र के बाद राज्य की सियासत में भूचाल आ गया है। उन्होंने पत्र में एंटीलिया मामले में निलंबित चल रहे पुलिस अधिकारी सचिन वाजे का उल्लेख करते हुए महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख पर गंभीर आरोप लगाया है।

आरोपों के अनुसार, देशमुख ने सचिन वाजे से कहा था कि वह उन्हें हर महीने 100 करोड़ रुपए की वसूली करके दे। इसके बाद यह मामला फिर सुर्खियों में आ गया है और सोशल मीडिया पर हजारों की तादाद में लोग मांग कर रहे हैं कि अनिल देशमुख की भी जांच हो।

हालांकि देशमुख ने सफाई देते हुए कहा कि परमबीर सिंह ने खुद को कानूनी कार्रवाई से बचाने के लिए यह आरोप लगाया है।

उल्लेखनीय है कि उद्योगपति मुकेश अंबानी के आवास के पास विस्फोटक भरा वाहन मिलने के बाद अब मामले की जांच एनआईए कर रही है। इसमें महाराष्ट्र पुलिस के अधिकारी सचिन वाजे पर शक की सुई घूम रही है। मामले के तूल पकड़ने पर परमबीर सिंह को मुंबई के पुलिस आयुक्त पद से हटा दिया गया था। अब उनकी इस चिट्ठी के बाद अनिल देशमुख निशाने पर आ गए हैं।

मामले को लेकर भाजपा नेता किरीट सोमैया ने अनिल देशमुख पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा, मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त ने कहा कि असली जबरन वसूलीकर्ता महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख हैं। सचिन वेज उनसे कई बार मिला था। देशमुख पब आदि से पैसा वसूल कर रहे थे। भाजपा की मांग है कि अनिल देशमुख को मंत्रालय से तुरंत बर्खास्त किया जाना चाहिए।