चाय की दुकान चलाते हैं राजकुमार। फोटो: एएनआई।
चाय की दुकान चलाते हैं राजकुमार। फोटो: एएनआई।

कुरुक्षेत्र/दक्षिण भारत। हरियाणा में एक चायवाला जब अपनी खराब आर्थिक स्थिति के कारण बैंक से कर्ज लेने गया तो वहां अधिकारियों ने यह कहकर उसकी मुसीबत बढ़ा दी कि वह तो पहले ही 50 करोड़ का डिफाल्टर है। यह सुनते ही चायवाले के पैरों तले जमीन खिसक गई।

एएनआई की एक रिपोर्ट के अनुसार, कुरुक्षेत्र में चाय की दुकान चलाने वाले राजकुमार जब कोरोना से उपजे हालात के कारण आर्थिक तंगी का सामना कर रहे थे तो उन्होंने गुजारे के लिए बैंक से कर्ज लेने का फैसला किया।

इसी सिलसिले में वे बैंक गए। वहां बैंक अधिकारियों ने बताया कि आप पर पहले से ही 50 करोड़ रुपए का कर्ज है। राजकुमार कहते हैं कि उनकी कर्ज लेने संबंधी अर्जी खारिज कर दी गई है।

एक छोटी-सी दुकान में चाय बेचकर बमुश्किल परिवार का गुजारा चलाने वाले राजकुमार इस बात से हैरान हैं कि उन्होंने बैंक से 50 करोड़ रुपए कब ले लिए। वहीं, सोशल मीडिया पर भी इस मामले की चर्चा है।

राजकुमार ने कहा कि उन्हें समझ में नहीं आता कि जब बैंक ने उन्हें कभी कर्ज नहीं दिया तो डिफॉल्टर कैसे बना दिया! उन्होंने बताया, ‘मैं यह नहीं समझ सकता कि जब मैंने कोई कर्ज नहीं लिया, तो मेरे नाम पर यह कर्ज किसने और कब दे दिया।’