प्रतीकात्मक चित्र
प्रतीकात्मक चित्र

नई दिल्ली/दक्षिण भारत/भाषा। कोरोना वायरसरोधी टीका कब आएगा? महामारी के दौरान यह सवाल अनेक बार पूछा गया है। इस संबंध में सरकार ने कहा है कि देशभर में कोविड-19 की दवा की जरूरत, उसके भंडार, भंडारण तापमान एवं उपलब्धता आदि के बारे में ‘इलेक्ट्रॉनिक वैक्सीन इंटेलिजेन्स नेटवर्क’ के जरिए नजर रखी जाएगी।

यह जानकारी स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे ने राज्यसभा को एक प्रश्न के लिखित जवाब में दी थी। उनके अनुसार, इलेक्ट्रॉनिक वैक्सीन इंटेलिजेंस नेटवर्क इंटरनेट आधारित एक डिजिटल प्रणाली है। यह नियमित टीकाकरण, दवा के भंडार, भंडारण तापमान आदि को लेकर निगरानी करेगी।

सरकार ने कोरोना की दवा को लेकर विशेषज्ञों का एक राष्ट्रीय समूह बनाया है जो आबादी समूहों की प्राथमिकता, लोगों का चयन, दवा की आपूर्ति व्यवस्था तथा संबद्ध अवसंरचना के बारे में सरकार को परामर्श देगा। मंत्री ने साफ किया कि सरकार ने इस संबंध में किसी भी विदेशी फर्मास्यूटिकल कंपनी के साथ कोई करार नहीं किया है।

एक रिपोर्ट के अनुसार, मंत्री अश्विनी चौबे ने लोकसभा में बताया कि अगर टीका क्लिनिकल परीक्षण में सफल होता है तो साल 2021 की पहली तिमाही के अंत तक उपलब्ध हो सकता है। मंत्री ने बताया कि भारत बायोटेक द्वारा आईसीएमआर के साथ मिलकर टीका तैयार किया जा रहा है। इसके अलावा, एक टीका कैडिला हेल्थकेयर द्वारा विकसित किया जा रहा है। अभी इनका परीक्षण किया जा रहा है।