मालगाड़ी 'शेषनाग'
मालगाड़ी 'शेषनाग'

नई दिल्ली/दक्षिण भारत। लॉकडाउन में भारतीय रेलवे देश के विभिन्न शहरों तक अनाज और जरूरी सामान पहुंचाने के लिए हर समय सक्रिय रहा है, वहीं उसने ऐसे रिकॉर्ड भी कायम किए हैं जिस पर हर देशवासी गर्व करेगा।

रेलवे ने बताया कि उसने सबसे लंबी मालगाड़ी का परिचालन कर एक और कीर्तिमान बनाया है। रेलवे ने इसे ‘शेषनाग’ नाम दिया है। यह ट्रेन दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के नागपुर डिवीजन से छत्तीसगढ़ के कोरबा के बीच चलाई गई। इसकी लंबाई 2.8 किलोमीटर है।

इस ट्रेन में एक के पीछे एक चार मालगाड़ियां जोड़ी गईं। इस तरह ‘शेषनाग’ ने हाल में चर्चा में रही ‘सुपर एनाकोंडा’ के रिकॉर्ड को भी तोड़ दिया है, वह ओडिशा के लाजकुरा और राउरकेला के बीच चली थी। इसका कुल 177 लोडेड वैगनों के साथ संचालन किया गया था। रेलवे ने बताया कि 251 डिब्बों वाली ट्रेन ‘शेषनाग’ ने करीब 260 किलोमीटर का सफर छह घंटे में पूरा किया।

इस संबंध में रेल मंत्री पीयूष गोयल ने ट्वीट किया, ‘रेलवे द्वारा देश में रेकार्ड 2.8 किमी लंबी मालगाड़ी का सफलतापूर्वक परिचालन किया गया। चार ट्रेनों को जोड़कर शेषनाग नाम से मालगाड़ी चलाने का यह प्रयोग सफल रहा। इससे एक बार में अधिक सामान को एक स्थान से दूसरे स्थान पर भेजा जा सकता है।’

शेषनाग के 251 डिब्बों को चार इलेक्ट्रिक इंजनों द्वारा खींचा गया, जो बीच में फिट किए गए थे। ट्रेन में खाली बॉक्सन रेक थे। भारतीय रेलवे अपने नेटवर्क में मालगाड़ियों की आवाजाही को प्राथमिकता दे रहा है क्योंकि कोरोना वायरस महामारी के कारण यात्री ट्रेनें पूर्ण उपयोग में नहीं आ रही हैं।