सोचिये यदि आपके दिल की ध़डकन बंद हो जाए तो क्या आप जीवित रह पाएंगे। नहीं न, लेकिन आपको यह आश्चर्य होगा जानकर कि एक ऐसा शख्स है जिसके दिल की ध़डकन पिछले तीन साल से बंद है फिर भी वह जिंदा है। दरअसल ५५ साल के क्रेग लुईस नाम के शख्स के सीने में दिल ही नहीं है। वह मार्च २०११ से जानलेवा बीमारी से जूझ रहा है। इसके बाद उसे टेक्सस के हार्ट इंस्ट्यूट में भर्ती कराया गया। वह एमाइलॉयडॉसिस नामक एक बेहद दुर्लभ बीमारी से जूझ रहा था। यह एक ऑटो इम्यून रोग है जिसमें शरीर की प्रतिरक्षा तंत्र अपने शरीर के खिलाफ ही काम करने लगता है यदि समय रहते उसके लिये कुछ नहीं किया जाता तो लुईस की मौत निश्चित थी। लेकिन संयोग से डॉ. बिली कोन और डॉ. बड फ्रेजीयर पीडित लुईस के सीने में कंटीन्यूअस फ्लो डिवाईस नामक एक यंत्र लगाने में सफल रहे। इस यंत्र की मदद से रोगी के शरीर में रक्त का प्रवाह होता रहता है और इसके लिए दिल के धडकने की आवश्यकता नहीं है। इस यंत्र को फिट करने से पहले डॉक्टरों ने लुईस का दिल निकाल लिया था। तब से लुईस बिना दिल के जिंदा है। वह बोल पाता है और रोज डॉक्टरों से बात करता है, पर उसके सीने में दिल नहीं धडकता। इस यंत्र का सफल प्रत्यारोपण कराने वाला वह पहला शख्स है।