आतंकवादी अब्दुल करीम उर्फ बोरो करीम
आतंकवादी अब्दुल करीम उर्फ बोरो करीम

कोलकाता/भाषा। पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद जिले में एक ठिकाने से शुक्रवार तड़के जमात-उल-मुजाहिद्दीन बांग्लादेश (जेएमबी) के एक शीर्ष आतंकवादी को गिरफ्तार कर लिया गया। यह 2018 में बोध गया विस्फोट मामले में कथित तौर पर शामिल था।

एक अधिकारी ने बताया कि कोलकाता पुलिस की विशेष कार्य बल (एसटीएफ) इकाई ने मुर्शिदाबाद जिला पुलिस और सूती कस्बे के स्थानीय अधिकारियों के साथ मिलकर अब्दुल करीम उर्फ बोरो करीम को गिरफ्तार कर लिया।

यह देश के जेएमबी के शीर्ष सदस्यों में से एक है। अधिकारी ने बताया, ‘इसने बांग्लादेश के आतंकवादियों को शरण दी थी जो सीधे तौर पर बोध गया विस्फोट में शामिल थे। इसे मुर्शिदाबाद जिले के सूती पुलिस थाना क्षेत्र से आज सुबह गिरफ्तार कर लिया गया।’

एसटीएफ की इकाई द्वारा 2018 में मुर्शिदाबाद स्थित आरोपी के घर से बड़ी मात्रा में विस्फोटक पदार्थ और ‘जिहादी’ सामग्री जब्त की गई थी। हालांकि तब करीम का पता नहीं लगाया जा सका था।

पुलिस सूत्रों ने बताया कि राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने करीम का नाम बोध गया विस्फोट मामले के आरोप पत्र में शामिल नहीं किया था लेकिन काफी समय से वह जांच के दायरे में था।

उन्होंने कहा, ‘वह भारत में जेएमबी के शीर्ष तीन वांछित सदस्यों में से एक है। उसे आज एक स्थानीय अदालत में पेश किया जाएगा और उसे पुलिस हिरासत में रखने की अनुमति ली जाएगी।’

बिहार के बोध गया में 19 जनवरी, 2018 को तिब्बती अध्यात्मिक नेता दलाई लामा के महाबोधि मंदिर में उपदेश देने के कुछ घंटे बाद कम तीव्रता वाला बम धमाका हुआ था। इस संबंध में एनआईए ने पांच लोगों को गिरफ्तार किया था।