मध्य प्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन
मध्य प्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन

लखनऊ/भाषा। मध्य प्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन का मंगलवार सुबह यहां मेदांता अस्पताल में निधन हो गया। वे 85 वर्ष के थे। मेदांता अस्पताल के निदेशक डॉ. राकेश कपूर ने कहा, ‘मध्य प्रदेश के राज्यपाल लालजी टंडन का सुबह पांच बजकर 35 मिनट पर निधन हो गया।’

टंडन के पुत्र एवं उत्तर प्रदेश सरकार में कैबिनेट मंत्री आशुतोष टंडन ‘गोपालजी’ ने जानकारी दी कि लालजी टंडन का अंतिम संस्कार गुलाला घाट चौक पर शाम साढ़े चार बजे होगा।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने टंडन के निधन पर गहरा शोक व्यक्त करते हुए कहा, ‘लालजी टंडन के निधन पर देश ने एक लोकप्रिय जननेता, योग्य प्रशासक एवं प्रखर समाज सेवी को खो दिया है।’ उत्तर प्रदेश सरकार के एक प्रवक्ता ने बताया कि राज्य सरकार ने तीन दिन के राजकीय शोक की घोषणा की है।

टंडन को पिछले महीने 11 जून को सांस लेने में दिक्कत, बुखार और पेशाब संबंधी समस्या के कारण अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उनकी तबीयत खराब होने के कारण उत्तर प्रदेश की राज्‍यपाल आनंदीबेन पटेल को मध्‍य प्रदेश का अतिरिक्‍त कार्यभार सौंपा गया था।

मोदी ने जताया शोक
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लालजी टंडन के निधन पर शोक जताते हुए कहा कि उन्हें समाज की सेवा के लिए किए गए अथक प्रयासों के लिए सदा याद किया जाएगा।

मोदी ने ट्वीट किया, ‘श्री लालजी टंडन को समाज की सेवा के लिए किए गए उनके अथक प्रयासों के लिए याद किया जाएगा। उत्तर प्रदेश में भाजपा को मजबूत करने में उनकी एक अहम भूमिका थी।’

मोदी ने कहा कि टंडन ने एक प्रभावी प्रशासक के रूप में अपनी पहचान बनाई और जन कल्याण को हमेशा महत्व दिया। प्रधानमंत्री ने कहा कि टंडन संवैधानिक मामलों के अच्छे जानकार थे।

मोदी ने कहा कि दिवंगत अटल बिहारी वाजपेयी के साथ उनके करीबी संबंध थे। प्रधानमंत्री ने कहा, ‘उनके निधन से दुखी हूं। इस शोकाकुल घड़ी में टंडन के परिवार और शुभचिंतकों के साथ मेरी संवेदनाएं हैं। ओम शांति।’