प्रतीकात्मक चित्र। फोटो स्रोत: PixaBay
प्रतीकात्मक चित्र। फोटो स्रोत: PixaBay

राजगढ़/दक्षिण भारत। मध्य प्रदेश के राजगढ़ जिले में शिवपुरा और गणूपुरा गांवों में सोने के सिक्के मिलने की अफवाह के बाद कड़ी सर्दी के बावजूद लोग खुदाई में जुटे हुए हैं। जानकारी के अनुसार, गांव में किसी ने यह अफवाह फैला दी कि पार्वती नदी में खुदाई से सोने के सिक्के मिले हैं, जिसके बाद यहां भारी संख्या में लोग खुदाई करने लगे।

पांच दिन बाद भी अभी तक किसी को सिक्का मिलने का समाचार नहीं है। चूंकि इस इलाके का ऐतिहासिक महत्व भी है। यहां नदी किनारे रियासतकालीन राजाओं की समाधियां हैं। ऐसे में लोगों को इस अफवाह पर आसानी से यकीन हो गया कि यहां मुगलकाल के सिक्के मिले हैं।

स्थानीय लोगों का विश्वास है कि प्राचीन काल में मुगलों की सेनाएं भी इस रास्ते से गुजरी थीं। ऐसे में उन्हें उम्मीद है कि खुदाई से कोई सिक्का तो जरूर मिल जाएगा। लोगों के मुताबिक, उन्होंने आठ से 10 सिक्के मिलने की बात सुनी है। हालांकि स्थानीय मीडिया रिपोर्टों में इस दावे को खारिज किया गया है।

जब गांव में यह अफवाह फैली तो देखते ही देखते ग्रामीण यहां उमड़ पड़े। उनके हाथों में जमीन की खुदाई का सामान था। सिक्का हासिल करने की उम्मीद में उन्होंने नदी के कई हिस्सों में खुदाई कर दी लेकिन ये पंक्तियां लिखे जाने तक किसी को कामयाबी नहीं मिली। बड़ा सवाल यह है कि इस समय जब कोरोना वायरस का खतरा बरकरार है तो ए​क जगह पर इतनी संख्या में लोगों का इकट्ठा होना सेहत के लिहाज कितना सुरक्षित है।

सिक्का हासिल करने की चाह में लोग सोशल डिस्टेंसिंग जैसी सावधानी को भी नजरअंदाज कर रहे हैं। सोशल मीडिया पर आए चित्रों में देखा गया कि लोग किस तरह मजमा लगाकर खुदाई कर रहे हैं।

बता दें कि पिछले साल नवंबर के आखिरी हफ्ते में नागालैंड के वानचिंग गांव में यह अफवाह फैल गई थी कि यहां हीरा मिला है, जिसके बाद स्थानीय लोगों ने पहाड़ी को खोद डाला लेकिन किसी को हीरा नहीं मिला।