नई दिल्ली। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मनीष तिवारी ने कहा है कि उच्चतम न्यायालय के तीन तलाक के मुद्दे पर ऐतिहासिक फैसले का कांग्रेस बखूबी लाभ उठा सकती थी लेकिन वह इसके लिए उचित रणनीति नहीं बना पाई। तिवारी ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि न्यायालय का फैसला ऐतिहासिक है और यह कांग्रेस के लिए राजनीतिक फायदा लेने का अच्छा अवसर हो सकता था लेकिन पार्टी इस मौके का लाभ उठाने में नाकाम रही है जबकि भारतीय जनता पार्टी पूरी ताकत के साथ इसका फायदा लेने का प्रयास कर रही है। उन्होंने कहा कि यदि सरकार मुस्लिम महिलाओं की दुर्दशा को लेकर सचमुच चिंतित है तो उसे उनके हित के लिए कानून बनाना चाहिए। उन्होंने कहा कि यह फैसला बहुत अच्छा और एकदम सही है। देश के नागरिकों की आजादी पर विश्वास करने वाले लोग इसका मायना समझते हैं और वे न्यायालय के फैसले का समर्थन कर रहे हैं। भाजपा की गिनती उदारवादी पार्टियों में नहीं होती तथा वह महिला विरोधी भी है । यह फैसला समुदाय विशेष से जुडा होने के बावजूद भाजपा इसका लाभ लेने में लगी रही । उन्होंने कहा कि उदारवादी पार्टी होने के नाते कांग्रेस आसानी से इसका राजनीतिक फायदा ले सकती थी। कांग्रेस के वरिष्ठ प्रवक्ता ने तीन तलाक के संदर्भ में शाहबानों मामले का जिक्र करते हुए कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के शासन के दौरान जब यह फैसला आया था तो कांग्रेस के लिए एक चुनौती बन गया था।