जयपुर बांसवाड़ा जिले के कुशलगढ़ उपखण्ड अधिकारी रामेश्वरदयाल मीणा शुक्रवार सुबह बांसवाड़ा से कुशलगढ़ जा रहे थे। इस दौरान वे बिलड़ी के पास ढेबरी नदी पुल को पार कर रहे थे कि नदी का बहाव अचानक तेज हो गया, जिससे उनकी गाड़ी पानी में बह गई।

प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार एसडीएम मीणा और वाहन चालक दोनों गाड़ी में से कूद गए थे। चालक करीब दो किलोमीटर की दूरी पर तैर कर बाहर निकला। एसडीएम मीणा के नदी में बहने की घटना से जिला प्रशासन ने राहत कार्य पूरी तरह से मुस्तैद कर दिए हैं।

घटना की सूचना मिलने के बाद जिला कलेक्टर आैर एसपी सहित अन्य अधिकारी तुरंत मौके पर पहुंचे। एसडीएम को तलाशने के लिए आसपास के थानों के जाप्ता लगाया गया है। साथ ही ग्रामीण भी उन्हें तलाशने में जुटे हैं।

एसपी कालूराम रावत ने बताया कि एसडीएम कुशलगढ़ लौट रहे थे। तभी रास्ते मे बागीदौरा और कुशलगढ़ के बीच एक रपट पर करीब पांच से साथ फीट की चादर चल रही थी। जिसकी अनदेखा कर एसडीएम के चालक ने वाहन पानी मे उतार दिया। पाने के तेज बहाव में वाहन बह गया। इससे करीब दो किलोमीटर दूर चालक किसी पेड़ के सहारे से अटक गया लेकिन एसडीएम का कहीं पता नही चला। हादसे के बाद मौके पर लोगों की भीड़ लग गर्इ।

बांसवाड़ा में गुरुवार शाम से ही बारिश हो रही है। बारिश का दौर जारी होने से जहां सुरवानिया बांध और हेरो डेम में पानी की आवक तेज हो गई है, वहीं कुछ गांवों में दुकानों में पानी घुस गया है। उदयपुर मार्ग पर नीलगिरी के पेड़ गिर गए जिससे रास्ता जाम हो गया। कुछ गांवों में रात से ही बिजली गुल है।

बांसवाड़ा जिले में लगातार बारिश होने से सुरवानिया नदी उफान पर है। नदी में उफान के चलते कर्इ लोग फंस गए हैं। जिले का दूसरा बड़ा सुरवानिया डेम में पानी की आवक तेज गति से शुरू हो गई है। बांध की भराव क्षमता 12.3 मीटर है, अभी तक 11.7 मीटर तक भर चुका है। गेट आज खुलने की संभावना है। ठीकरिया सहित आस-पास के क्षेत्र में स्थित खेत पानी से लबालब हो गए है।