श्रीनगर। दक्षिण कश्मीर के शोपियां जिले में शनिवार रात शुरू हुई एक मुठभे़ड में हिज्बुल मुजाहिदीन के मुख्य अभियान कमांडर यासिन इटू उर्फ गजनवी सहित उसके तीन आतंकियों के मारे जाने से आतंकी संगठन को एक ब़डा झटका लगा है। मुठभे़ड में दो सेनाकर्मियों की भी मौत हो गई। जिले के जैनापोरा इलाके के अवनीरा गांव में आतंकवादियों की मौजूदगी की सूचना मिलने के बाद जम्मू-कश्मीर पुलिस, सेना तथा सीआरपीएफ के विशेष अभियान समूह ने कल रात घेराबंदी और तलाशी अभियान शुरू किया था। तलाशी के दौरान आतंकियों ने उनपर गोली चला दी जिसकी जवाबी कार्रवाई में सुरक्षा बलों ने भी गोली चलाई जिससे मुठभे़ड शुरू हो गई। आतंकियों की गोलीबारी में पांच सेना कर्मी घायल हो गए जिनमें से दो की बाद में मौत हो गई। इससे सुरक्षा बलों ने इलाके की घेराबंदी कर त़डके तक इंतजार किया और आतंकियों पर हमला किया। पूरी रात रुक-रुककर गोलीबारी चलती रही और सुबह अभियान पूरे चरम पर पहुंच गया। वहां घिरे तीनों आतंकियों को मार गिराया गया। उनकी पहचान तकनीकी दक्षता रखने वाले आतंकी इरफान और गजनवी की निजी सुरक्षा में लगे आतंकी उमर के रूप में हुई है। पुलिस के अनुसार मध्य कश्मीर के बडगाम जिले का रहने वाले इटू हिज्बुल मुजाहिदीन से लंबे समय से जु़डा हुआ था और सुरक्षा बलों के साथ मुठभे़ड में पिछले साल आतंकी बुरहान वानी के मारे जाने के बाद घाटी में शुरू हुई अशांति को बनाए रखने में संलिप्त था। उसने संगठन में कई युवाओं की भर्ती भी कराई थी। घटनास्थल से इटू द्वारा इस्तेमाल की गई एक केके सीरिज रायफल और साथ ही दो एके सीरिज रायफल बरामद किया गया।