रात को 9 बजते ही रोशनी से जगमगाया हिन्दुस्तान, प्रधानमंत्री की अपील का व्यापक असर

देशवासियों का संकल्प- मिलकर मिटाएंगे महामारी का अंधियारा

बेंगलूरु/नई दिल्ली/दक्षिण भारत। रविवार रात को जैसे ही घड़ी की सुइयों ने नौ बजने का संकेत दिया, देशभर में लॉकडाउन का पालन कर रहे करोड़ों लोग अपने घरों की लाइट बंद कर दरवाजे, बालकनी में आए और दीये, मोमबत्ती, टॉर्च, मोबाइल फोन की फ्लैशलाइट आदि जलाकर रोशनी की।

कोरोना महामारी के खिलाफ देशवासियों की एकता के इस अनूठे ‘प्रकाश पर्व’ की तस्वीरें सोशल मीडिया पर खूब पोस्ट और शेयर की गईं। ऐसा लग रहा था कि पूरा देश दीपावली मना रहा है और घर-घर में रोशनी का सैलाब उमड़ आया है।

महानगरों से लेकर कस्बों और सुदूर गांव-ढाणियों तक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा की गई अपील का व्यापक असर दिखा और लोगों ने उम्मीद जताई कि सरकार के फैसलों, चिकित्साकर्मियों, व्यवस्था कायम रखने में जुटे लोगों के अथक परिश्रम और नागरिकों द्वारा बरती जा रही एहतियात से कोरोना वायरस को शिकस्त मिलेगी।

विजय तो सत्य और सहयोग की होगी
कोरोना के अंधकार को चुनौती देने के लिए बच्चों से लेकर बड़ों और बुजुर्गों में भी खासा उत्साह दिखा। चूंकि प्रधानमंत्री की अपील में नौ मिनट तक रोशनी करने का जिक्र था, इस दौरान पूरा हिंदुस्तान रोशनी से जगमगा उठा। तय अवधि के बाद लोग अपने घरों में आ गए लेकिन टिमटिमाते हुए दीपक अंधेरे को यह चुनौती देते हुए प्रतीत हो रहे थे कि महामारी का प्रकोप कितना भी घना क्यों न हो, विजय तो सत्य, सकारात्मकता और सामूहिक सहयोग की ही होगी।

लोग करते रहे अपनों से अपील
इन ऐतिहासिक क्षणों का साक्षी बनने के लिए लोग शाम को ही तैयारियों में जुट गए थे। वहीं, सोशल मीडिया पर अपने मित्रों और परिचितों से भी यह अपील करते रहे कि निर्धारित समय पर रोशनी कर कोरोना महामारी के खिलाफ देशवासियों की एकजुटता को मजबूत बनाएं।

समाप्त हों रोग, शोक, शत्रुता
रोशनी करने के बाद लोगों ने भगवान, अपने इष्टदेव का स्मरण कर यह प्रार्थना की कि कोरोना संकट में भारत को विजय दिलाएं, सबके प्राणों की रक्षा करें और पूरे विश्व में सुख-शांति कायम हो; रोग, शोक और शत्रुता समाप्त हों।

इस युद्ध में कोई अकेला नहीं
लोगों ने इन क्षणों को कैमरों में कैद कर एक-दूसरे को भेजा और यह संकल्प जताया कि कोरोना महामारी से युद्ध में कोई अकेला नहीं है, हम सब मिलकर ही यह युद्ध जीतेंगे। उत्साह और एकजुटता के वातावरण में लोगों ने इस बात का ध्यान रखा कि सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का उल्लंघन न हो।

पीढ़ियों को बताएंगे- हमने कोरोना के अंधकार को भेदा
जगमगाते दीयों, मोमबत्तियों की तस्वीरें पोस्ट कर कई लोगों ने यह इच्छा जताई कि वे इन्हें सहेजकर रखेंगे और आने वाली पीढ़ियों को दिखाएंगे कि किस प्रकार प्रधानमंत्री मोदी के आह्वान के बाद हमने एकजुट होकर प्रकाश की किरणों से कोरोना के अंधकार को भेदा और विश्व पटल पर भारत विजेता बनकर उभरा।