नई दिल्ली/भाषा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कोरोना वायरस के खिलाफ भारत की लड़ाई पर सीधी प्रतिक्रिया प्राप्त करने के लिए रोजाना 200 से अधिक लोगों के साथ संवाद करते हैं। यह जानकारी प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) ने रविवार को दी। पीएमओ ने कहा कि प्रधानमंत्री के इस तरह के संवाद में राज्यपालों, मुख्यमंत्रियों और राज्य के स्वास्थ्य मंत्रियों को किए जाने वाले फोन कॉल शामिल हैं।

पीएमओ की ओर से जारी एक बयान में कहा गया है कि मोदी देश के विभिन्न हिस्सों में डॉक्टरों, नर्सों, स्वास्थ्य कर्मचारियों और स्वच्छता कर्मचारियों से भी फोन के माध्यम से संपर्क करते हैं। मोदी ऐसा उन्हें प्रोत्साहित करने और देश एवं समाज के प्रति उनकी सेवा के लिए आभार जताने के लिए करते हैं।

इसमें कहा गया कि मोदी कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के प्रयास के तहत वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से विभिन्न क्षेत्रों के लोगों के साथ बातचीत भी करते हैं। प्रधानमंत्री कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों और इसके प्रभाव से उबर चुके कुछ लोगों तक टेलीफोन के माध्यम से भी पहुंच बनाते हैं ताकि इस संबंध में प्रगति पर अद्यतन जानकारी ले सकें।

मोदी ने जनवरी के बाद से कोविड-19 से लड़ने के तरीके और साधनों का पता लगाने लिए जीवन के विभिन्न क्षेत्रों के लोगों और अधिकारियों के साथ कई दौर की बैठकें और चर्चाएं की हैं। पीएमओ के बयान में कहा गया है कि प्रधानमंत्री मोदी दैनिक आधार पर बैठकें करते हैं, जिसमें कैबिनेट सचिव और प्रधानमंत्री के प्रधान सचिव द्वारा उन्हें नवीनतम जानकारी दी जाती है।

उसने कहा कि इसके अलावा सरकार द्वारा उठाए जा रहे कदमों के बारे में प्रधानमंत्री को मंत्रियों के समूह द्वारा भी अद्यतन किया जाता है।