logo
देश स्थापित कर रहा नए कीर्तिमान, कुछ लोग संसद को रोकने में लगे हैं: मोदी
 
देश स्थापित कर रहा नए कीर्तिमान, कुछ लोग संसद को रोकने में लगे हैं: मोदी
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। फोटो स्रोत: भाजपा ट्विटर अकाउंट।

नई दिल्ली/दक्षिण भारत। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को उत्तर प्रदेश के ‘प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना’ लाभार्थियों से संवाद किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि आज आप सबसे बात करके बहुत संतोष हो रहा है। संतोष इस बात का कि दिल्ली से अन्न का जो एक एक दाना भेजा गया, वो हर लाभार्थी की थाली तक पहुंच रहा है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि संतोष इस बात का कि पिछली सरकारों के समय उप्र में गरीब के अनाज की जो लूट हो जाती थी, अब वो रास्ता बंद हो गया है। उप्र में जिस तरह प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना को लागू किया जा रहा है, वो नए उप्र की पहचान को और मजबूत करती है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि आज की यह 5 अगस्त तारीख बहुत विशेष बन गई है। यह 5 अगस्त ही है, जब दो साल पहले देश ने एक भारत, श्रेष्ठ भारत की भावना को और सशक्त किया था। पांच अगस्त को ही, आर्टिकल-370 को हटाकर जम्मू-कश्मीर के हर नागरिक को हर अधिकार, हर सुविधा का पूरा भागीदार बनाया गया था।

प्रधानमंत्री ने कहा कि यही 5 अगस्त है जब कोटि-कोटि भारतीयों ने सैकड़ों साल बाद भव्य राम मंदिर के निर्माण की तरफ पहला कदम रखा। आज अयोध्या में तेजी से राम मंदिर का निर्माण हो रहा है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि करीब चार दशक बाद यह स्वर्णिम पल आया है। जो हॉकी हमारी राष्ट्रीय पहचान रही है, आज हमारे युवाओं ने उस गौरव को फिर से हासिल करने की तरफ देश को बहुत बड़ा तोहफा दिया है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि एक तरफ हमारा देश, हमारे युवा भारत के लिए नई सिद्धियां हासिल कर रहे हैं। जीत का, गोल के बाद गोल कर रहे हैं। वहीं कुछ लोग ऐसे हैं जो राजनीतिक स्वार्थ के चलते एक तरह से सेल्फ गोल कर रहे हैं। देश क्या हासिल कर रहा है, इससे इन्हें कोई सरोकार नहीं है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि देश क्या चाहता है, देश क्या हासिल कर रहा है, देश कैसे बदल रहा है इससे इनको कोई सरोकार नहीं। ये लोग देश का समय और देश की भावना दोनों को आहत कर रहे हैं। भारत की संसद का, ये लोग अपने राजनीतिक स्वार्थ की वजह से निरंतर अपमान कर रहे हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि जब देश नए कीर्तिमान स्थापित कर रहा है, तो कुछ लोग संसद को रोकने में लगे हैं। कुछ ही सप्ताह में हमने जो कीर्तिमान देखे, उसमें भारतीयों का सामर्थ्य और सफलता, चारों ओर नजर आती है। ओलंपिक में अभूतपूर्व प्रदर्शन को पूरा देश उत्साहपूर्वक देख रहा है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि जो लोग सिर्फ अपने पद के लिए परेशान हैं, वे अब भारत को रोक नहीं सकते। नया भारत पद नहीं पदक जीतकर दुनिया में छा रहा है। नए भारत में आगे बढ़ने का मार्ग परिवार नहीं, बल्कि परिश्रम से तय होगा। इसलिए, आज भारत का युवा कह रहा है- भारत चल पड़ा है, भारत का युवा चल पड़ा है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि इस मुश्किल समय में एक भी गरीब ऐसा न हो, जिसके घर में राशन न हो, ये सुनिश्चित करना जरूरी है। सौ साल का यह संकट सिर्फ महामारी का ही नहीं है, बल्कि इसने कई मोर्चों पर देश और दुनिया की अरबों की आबादी को अपनी चपेट में लिया है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि अतीत में हमने अनुभव किया है कि जब देश पर पहले इस तरह का बड़ा संकट आता था तो देश की तमाम व्यवस्थाएं बुरी तरह से हिल जाती थीं। लेकिन आज भारत, भारत का प्रत्येक नागरिक पूरी ताकत से इस महामारी का मुकाबला कर रहा है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि इस कोरोना कालखंड में भी भारतीयों का उद्यम नए प्रतिमान गढ़ रहा है। जुलाई में जीएसटी का कलेक्शन हो या हमारा एक्सपोर्ट हो, ये नई ऊंचाई छू रहे हैं। जुलाई में 1 लाख 16 हजार करोड़ रुपए का जीएसटी कलेक्शन होना बताता है कि अर्थव्यवस्था गति पकड़ रही है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि वहीं आजादी के बाद पहली बार किसी एक महीनें में भारत का एक्सपोर्ट 2.5 लाख करोड़ से भी ज्यादा हो गया। कृषि निर्यात में हम दशकों बाद हम दुनिया के टॉप 10 देशों में शामिल हुए हैं। देश का पहला मेड इन इंडिया विमानवाहक पोत ‘विक्रांत’ समंदर में अपना ट्रायल शुरू कर चुका है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि योगीजी ने बीते चार वर्षों में एमएसपी पर खरीद के नए-नए रिकॉर्ड बनाए। उप्र में इस साल गेहूं और धान की खरीद में, पिछले वर्ष की तुलना में करीब दो गुनी संख्या में किसानों को एमएसपी का लाभ पहुंचा है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि डबल इंजन की सरकार ने ये सुनिश्चित किया है कि गरीबों, दलितों, पिछड़ों, आदिवासियों के लिए बनी योजनाएं जमीन पर तेजी से लागू हों। पीएम स्वनिधि योजना भी इसका एक बड़ा उदाहरण है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि बीते दशकों में उत्तर प्रदेश को हमेशा राजनीति के चश्मे से देखा गया था। यूपी देश के विकास में भी अग्रिम भूमिका निभा सकता है, इसकी चर्चा तक ही नहीं होने दी गई।

प्रधानमंत्री ने कहा कि दिल्ली के सिंहासन का रास्ता उप्र से होकर गुजरता है, इसका सपना देखने वाले बहुत लोग आए और गए। लेकिन ऐसे लोगों ने कभी ये याद नहीं रखा कि भारत की समृद्धि का रास्ता भी उप्र से होकर गुजरता है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि डबल इंजन की सरकार ने उप्र के सामर्थ्य को एक संकुचित नज़रिए से देखने का तरीका बदल डाला है। उप्र भारत के ग्रोथ इंजन का पावर हाउस बन सकता है, यह आत्मविश्वास बीते सालों में पैदा हुआ है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि यह दशक एक तरह से उत्तर प्रदेश के पिछले 7 दशकों में जो कमी हुई उसकी भरपाई करने का दशक है। यह काम उप्र के सामान्य युवाओं, हमारी बेटियों, गरीब, दलित, वंचित, पिछड़ों की पर्याप्त भागीदारी और उनको बेहतर अवसर दिए बगैर नहीं हो सकता।