बटुआ.. प्रतीकात्मक चित्र
बटुआ.. प्रतीकात्मक चित्र

मुंबई/भाषा। मुंबई की लोकल ट्रेन में 14 साल पहले चोरी हुए बटुए को पुलिस ने ढूंढ़कर उसे उसके मालिक को सौंप दिया है। बटुए में 900 रुपए थे।

रेलवे पुलिस (जीआरपी) के एक अधिकारी ने कहा कि 2006 में छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनल-पनवेल लोकल ट्रेन में यात्रा करते समय हेमंत पेडलकर का बटुआ खो गया था।

इस साल अप्रैल में जीआरपी वाशी ने उन्हें फोन कर बताया कि उनका बटुआ मिल गया है। हालांकि, तब लागू लॉकडाउन के कारण वह अपना बटु लेने नहीं जा सके।

प्रतिबंध हटने के बाद पनवेल निवासी पेडलकर वाशी में जीआरपी कार्यालय गए और उसमें रखी राशि सहित अपना बटुआ लिया।।

पेडलकर ने बताया, ‘उस समय मेरे बटुए में 900 रुपए थे जिसमें 500 रुपए का पुराना नोट भी था जो बाद में विमुद्रीकरण के बाद बंद हो गया। वाशी जीआरपी ने मुझे 300 रुपए वापस कर दिए।

‘उन्होंने स्टाम्प पेपर के काम के लिए 100 रुपये काट लिए और कहा कि बाकी के 500 रुपए नोट बदलने के बाद मिल जाएंगे।’ जीआरपी के एक अधिकारी ने कहा कि पेडलकर का बटुआ चुराने वालों को कुछ समय पहले गिरफ्तार किया गया था।