logo
ममता के राज में बंगाल अराजकता और असहिष्णुता का पर्यायवाची बन चुका है: नड्डा
 
ममता के राज में बंगाल अराजकता और असहिष्णुता का पर्यायवाची बन चुका है: नड्डा
भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा

कोलकाता/दक्षिण भारत। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने पश्चिम बंगाल में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस पर गुरुवार को जोरदार हमला बोला। उन्होंने दक्षिण 24 परगना में कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा कि आज मैं यहां आया हूं, तो रास्ते में मुझे जो दृश्य देखने को मिला, वो इस बात को बताता है कि ममता के राज में बंगाल अराजकता और असहिष्णुता का पर्यायवाची बन चुका है।

नड्डा ने कहा कि आज मैं यहां पहुंचा हूं तो मां दुर्गा के आशीर्वाद से पहुंचा हूं। तृणमूल के गुंडों ने प्रजातंत्र का गला घोंटने में कोई कसर नहीं छोड़ी थी। ये अराजकता ज्यादा दिन नहीं चलने वाली है, ममताजी की सरकार यहां से जाने वाली है और बंगाल में कमल खिलने वाला है।

नड्डा ने कहा कि कैलाश विजयवर्गीयजी, राहुल सिन्हाजी को देखिए, इनकी गाड़ियों को देखिए। मैं तो इसलिए सुरक्षित हूं क्योंकि मेरे पास बुलेट प्रूफ गाड़ी थी। वरना आज कोई ऐसी गाड़ी नहीं थी जिस पर हमला न हुआ हो।

नड्डा ने कहा कि इस गुंडाराज को खत्म करके प्रजातंत्र को यहां आगे बढ़ाना है। विपक्ष को कुचल देने का इनका जो इनका विचार है, मैं इस विचार को कुचलने के लिए आपसे प्रजात्रंत के लिए आह्वान करता हूं।

नड्डा ने कहा कि बंगाल संस्कृति, सभ्यता के लिए जाना जाता है, लेकिन ममताजी ने जिस तरह का कृत्य किया है, जिस तरह से वो सरकार चला रही हैं, उन्होंने बंगाल को आज नीचे लाने का काम किया है। हमें बंगाल को फिर ऊपर उठाना है और सोनार बांग्ला बनाना है।

नड्डा ने कहा कि यहां पुलिस और प्रशासन का राजनीतिकरण हो रहा है। हमें इसे रोकना है और यहां कमल खिलाना है। कल से मैं देख रहा हूं, यहां प्रशासन नाम की चीज ही नहीं है। अगर केंद्रीय सुरक्षा बल न हो तो बंगाल में घूमना ही मुश्किल हो जाए। मैं समझ सकता हूं कि कार्यकर्ताओं की क्या हालत होती होगी।

नड्डा ने कहा कि एम्फान के समय एक हजार करोड़ रुपए केंद्र सरकार ने एडवांस दिया था। वो पैसा खर्च नहीं हुआ और उसमें भ्रष्टाचार हुआ। आपने चुनाव में तृणमूल की छुट्टी करनी है और भाजपा की सरकार बनानी है, ताकि करीब 70 लाख किसानों को किसान सम्मान निधि योजना का लाभ मिल सके।

नड्डा ने कहा कि हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश ने कहा कि इसका सीएजी से ऑडिट कराओ।लेकिन ममताजी भ्रष्टाचार को छिपाने के लिए सुप्रीम कोर्ट पहुंच गईं। आज रास्ते में मैंने देखा कि साधारण आदमी भी हमारा अभिनंदन कर रहा था। यहां ये लोग परिवर्तन चाहते हैं, ये लोग ममता सरकार से ऊब चुके हैं। जनता त्रस्त है, ये तृणमूल से छुटकारा चाहते हैं। ये सभी लोग भाजपा के स्वागत के लिए आतुर हैं।

इसी प्रकार, जेपी नड्डा ने हायमंड हार्बर में बैठक को संबोधित करते हुए कहा कि बंगाल जो अपनी संस्कृति, संस्कार, अपनी मीठी भाषा और बंगाली साहित्य के लिए जाना जाता है, ऐसे बंगाल पर ममताजी की अराजकता वाली और असहिष्णु सरकार है, उसकी तस्वीर आज हमने देखी है।

नड्डा ने कहा कि अम्फान के समय लोगों को मुसीबतों का सामना करना पड़ा। आज मत्स्य से जुड़े समाज के लोग मेरे सामने हैं, उनके लिए प्रधानमंत्रीजी ने एक हजार करोड़ रुपए भेजे और 12 हजार करोड़ रुपए अलग से भेजने की बात कही लेकिन ममताजी ने भ्रष्टाचार में ऊपर से नीचे तक संलिप्तता दिखाई।

नड्डा ने कहा कि बंगाल में प्रशासन नाम की चीज़ नहीं है। यहां की जनता के साथ अन्याय हो रहा है। जब आप अपना हक मांगने प्रशासन के पास जाते हो तो आपसे कट मनी मांगते हैं। ऐसी सरकार को उखाड़ फेंकना है।

ममताजी को किस चीज का भय है? एक तो बेईमानी, ऊपर से उससे बचने की कोशिश! ये आपके हक पर डाका डालने का काम किया गया है। आज तृणमूल के गुंडों ने हमारी गाड़ी रोकने की कोशिश की। कैलाशजी, मुकुल रॉयजी पर हमला किया। क्या ये रवींद्रनाथजी का, बंकिमचंद्रजी का बंगाल है? हमें ममताजी का बंगाल नहीं, रवींद्रनाथजी का बंगाल बनाना है।