logo
‘टूलकिट’: भाजपा का आरोप- भ्रम फैलाकर देश की बदनामी और मोदी की छवि खराब करने में जुटी कांग्रेस
 
‘टूलकिट’: भाजपा का आरोप- भ्रम फैलाकर देश की बदनामी और मोदी की छवि खराब करने में जुटी कांग्रेस
फोटो स्रोत: भाजपा ट्विटर अकाउंट।

नई दिल्ली/दक्षिण भारत। भाजपा ने मंगलवार को कथित टूलकिट मामले में कांग्रेस को जमकर आड़े हाथों लिया। उसने आरोप लगाया कि यह पार्टी कोरोना महामारी में देशवासियों के बीच भ्रम फैला रही है और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की छवि खराब कर रही है।

भाजपा ने यह भी आरोप लगाया कि कांग्रेस द्वारा कोरोना जैसे संकट काल में की जा रही ‘गिद्धों की राजनीति’ उजागर हो गई है। भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने ‘टूलकिट’ का जिक्र करते हुए कहा कि देश महामारी से लड़ रहा है लेकिन कांग्रेस सियासी स्वार्थवश भारत को दुनिया में अपमानित और बदनाम करने की कोशिशों में जुटी है।

दूसरी ओर, कांग्रेस ने मामले पर कड़ी प्रतिक्रिया दी है। उसने आरोप लगाया कि भाजपा ‘फर्जी टूलकिट’ का प्रचार कर रही है, लिहाजा वह उसके नेताओं के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराएगी।

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा कि कांग्रेस को समाज को बांटने और दूसरों के खिलाफ जहर उगलने में महारत हासिल है। उन्होंने ट्वीट किया, ‘जब देश कोविड-19 के विरुद्ध लड़ाई लड़ रहा है तो भारत कांग्रेस के इस रवैए को भी देख रहा है। मैं कांग्रेस से आग्रह करूंगा कि वह टूलकिट मॉडल से आगे निकले और कुछ रचनात्मक करे।’

संबित पात्रा ने आरोप लगाया कि ‘राहुल गांधी ने महामारी को प्रधानमंत्री मोदी की छवि धूमिल करने के मौके के रूप में इस्तेमाल किया। कांग्रेस कार्यकर्ताओं को कोरोना के नए स्ट्रेन को मोदी स्ट्रेन का नाम देने का निर्देश दिया। विदेश पत्रकारों की मदद से भारत को बदनाम करने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ी गई।’

पात्रा ने कहा कि नए स्ट्रेन को डब्ल्यूएचओ ने भी भारतीय स्ट्रेन कहने से इन्कार किया है लेकिन कांग्रेस ‘इंडियन स्ट्रेन’ और उससे भी आगे बढ़कर ‘मोदी स्ट्रेन’ के नाम से प्रचारित करने के प्रयासों में लगी है।

पात्रा ने कांग्रेस पर जमकर प्रहार करते हुए कहा, ‘यह बहुत ही दुखद है। कहीं न कहीं देश को पूरे विश्व में अपमानित और बदनाम करने के लिए एक वायरस को भारत के नाम, प्रधानमंत्री के नाम पर प्रतिपादित करने की चेष्टा है। मुझे लगता है यह कांग्रेस पार्टी के असली चेहरे को दर्शाता है।’

पात्रा ने दावा कि आज वह दस्तावेज उनके हाथ आ गया है जिसके सहारे राहुल गांधी रोज सुबह उठकर ट्वीट करते थे। उनके मुताबिक, ‘इस ‘टूलकिट’ में कहा गया है कि प्रधानमंत्री को बार-बार पत्र लिखें। आपने देखा होगा, कभी सोनियाजी चिट्ठी लिख रही हैं कभी कोई और लिख रहा है। ये सब ऐसे ही नहीं हो रहा है। सब कुछ एक डिजाइन के तहत हो रहा है, जिसका ब्योरा इस टूलकिट में है।’

पात्रा के दावे के मुताबिक, इसके तहत पीएम केयर्स के वेंटिलेटर्स पर सवाल दागने और सेंट्रल विस्टा परियोजना को ‘मोदी के निजी घर और महल’ के तौर पर दुष्प्रचार करने का उल्लेख है। यही नहीं, कुंभ को बड़े स्तर पर संक्रमण फैलाने का माध्यम के रूप में प्रचारित करने की बात की गई है। ईद और कुंभ की तुलना कर धर्म को बदनाम करने की कोशिश की है। आप कुंभ को बदनाम करिए और ईद के विषय में कुछ मत कहिए। इस प्रकार की सोच भी हो सकती है, क्या किसी की?

पात्रा ने दावा किया, ‘बहुत दुख के साथ हमें यह कहना पड़ रहा है कि यह जो कांग्रेस की गिद्धों की राजनीति है, आज वह संपूर्ण रूप से उजागर हो गई है। हमें सोनियाजी से और राहुलजी से जवाब चाहिए।’

इस मामले में ट्वीट करते हुए केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कांग्रेस पर हमला बोला। उन्होंने कहा, ‘देश कोरोना के विरुद्ध जंग लड़ रहा है। मैं समझ सकती हूं कि विपक्ष सरकार पर हमला करना चाहेगा लेकिन वह इस स्तर तक जाएगा और इसके लिए राजनीति अवसरवाद का व्यवसायीकरण और मौत का व्यापार करेगा, कभी सोचा नहीं था।’

दूसरी ओर कांग्रेस प्रवक्ता राजीव गौड़ा ने भाजपा के दावे पर आपत्ति जताई है। उन्होंने ‘फर्जी टूलकिट’ का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि पार्टी द्वारा जेपी नड्डा और संबित पात्रा के खिलाफ ‘जालसाजी’ की प्राथमिकी दर्ज करवाई जाएगी।